कांग्रेस में मची खींचतान के बीच कमलनाथ ने केन्द्र को लिखा पत्र, की ये मांग

कांग्रेस में मचे सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री कमल नाथ ने केन्द्र सरकार को पत्र लिखा है। यह पत्र सरदार सरोवर जलाशय में जल भराव के संबंध में लिखा गया है।  नर्मदा कंट्राेल अथाॅरिटी के शेड्यूल काे दरकिनार कर गुजरात द्वारा सरदार सराेवर डैम काे 26 दिन पहले ही 135 मीटर तक भरने पर नाथ ने नाराजगी जताई है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार काे केंद्रीय जल संसाधन मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत काे पत्र लिखकर कहा कि गुजरात डैम काे भरने में तय मापदंडाें का उल्लंघन कर रहा है। यह मध्यप्रदेश के लिए अति महत्वपूर्ण मुद्दा है, इसलिए तत्काल एनसीए की बैठक बुलाएं, जिससे इस मुद्दे पर जल्द से जल्द चर्चा हो सके।

मुख्यमंत्री ने पत्र में लिखा कि हालांकि 4 सितम्बर 2019 को दोपहर 12 बजे तक जलाशय 135.47 मीटर तक भर चुका था। इससे स्पष्ट है कि नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण द्वारा उपलब्ध कराई गई समय-सारणी का उल्लघंन हुआ है जो प्राधिकरण ने दिनांक 10 मई 2019 को जारी की थी। उन्होंने कहा कि यह भी स्पष्ट नहीं है कि बांध सुरक्षा के मान्य उपायों को अपनाया गया है या नहीं। नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण की ओर से किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जाना समझ से परे है। नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण द्वारा इस संबंध में स्वत: कार्रवाई की जाना अपेक्षित है। 

कमल नाथ ने कहा कि सरदार सरोवर परियोजना में जल भराव को समय-सारणी अनुसार नियंत्रित किया जाना अपेक्षित है जैसा कि इस पर सहमति हुई थी। इसी बीच गुजरात सरकार को तयशुदा समय-सारणी का पालन करने के लिए निर्देशित किया जाना चाहिए जैसा कि नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण के 10 मई 2019 के पत्र में उल्लेख किया गया है। गुजरात ने यह सब ऐसे समय किया, जब मप्र के 57 गांवाें में डूब प्रभाविताें के राहत एवं पुर्नवास का काम चल रहा है। यह मुद्दा गंभीर है, इसलिए एनसीए काे तत्काल कदम उठाना चाहिए और बैठक बुलानी चाहिए।

Leave comment