Editorial :- जेएनयू में लगे थे नारे : केरल मांगे, बंगाल मांगे , बस्तर मांगे आजादी

3 January 2020

CAA के खिलाफ  केरल सरकार का प्रस्ताव, बंगाल भी लाने…

टुकड़े-टुकडे गैंग को कांगे्रस-टीएमसी का संरक्षण क्यों?

जांच में यह सिद्ध हुआ है कि प्रतिबंधित सिमी और प्रतिबंधित होने वाला पीएफआई को पाकिस्तान का आईएसआई फंडिंग कर रहा है। सिमी और पीएफआई के सदस्यों का उत्तरप्रदेश कर्नाटक आदि में जो हिंसक प्रदर्शन हुए हैं उसमें हाथ रहा है।  ऐसी स्थिति मेें सिमी के बाद अब पीएफआई को भी टीएमसी और कांग्रेस का समर्थन क्यों?

जेएनयू में नारे लगे थे : कश्मीर मांगे आजादी, केरल मांगे आजादी, बस्तर मांगे आजादी, बंगाल मांगे आजादी…  भारत की बर्बादी तक संघर्ष रहेगा जारी।  ये नारे जेएनयू के छात्र नेता कन्हैयय़ा कुमार और उमर खालिद के नेतृत्व में उपस्थिति में लगे थे। नारे लगने के दूसरे दिन राहुल गांधी वामपंथी नेताओं और केजरीवाल के साथ इन नेताओं की पीठ थपथपाने पहुंच गये थे।

इन तथ्यों से स्पष्ट है कि कांग्रेस टीएमसी तथा अन्य इसी प्रकार के दल भारत में गृहयुद्ध की स्थिति उत्पन्न कर टुकड़े-टुकड़े गैंग ने जो नारे लगाये थे भारत में पनप रही पाक परस्त ताकतों के मंसूबे को अमलीजामा पहनाने के  लिये सीएए के विरोध के नाम पर अलगाववाद और भारत के टुकड़े-टुकड़े करने की साजिश रची जा रही है।

केरल ने सीएए के विरोध में जो असंवैधानिक प्रस्ताव पास किया है वह पहला कदम है।

इससे भी बढ़कर आश्चर्य की बात यह है कि  भारत की सेना और पुलिस बल तथा अन्य सुरक्षाबल के कारण आज हम सब १३० करोड़ भारत के लोग सुखचैन की सांस ले रहे हैं उसी के विरूद्ध कांगे्रस पार्टी, टीएमसी आदि ने जिहाद छेड़ा हुआ है। संबंधित समाचार  लोकशक्ति के आज के प्रथम पृष्ठ में भी छपे हैं।

कांग्रेस को ये सोचना चाहिये कि सावरकर जैसे भारत माता के सपूत की गोड़से के साथ समलैंगिक बताना और अन्य झूठे अनर्गल बातें बताकर अल्पसंख्यक वर्ग मुस्लिम समुदाय को भड़काना क्या देशभक्ति है?

अतएव विपक्षी पार्टियों को आज प्रधानमंत्री मोदी ने तुमकुर में सिद्धगंगा मठ में जो बात कही है उस पर गौर करना चाहिये।  उन्होंने ठीक ही कहा है कि कांग्रेस देश के खिलाफ मैदान में उतरी है सीएए विरोध की आड़ में। पाक के खिलाफ बोलने के लिये उनके मुंह में ताला जड़ा हुआ है। विपक्षी पार्टियों को विशेषकर कांगे्रस को धरना प्रदर्शन करना है तो पाक की करतूतों के खिलाफ करना चाहिये।

मोदी ने कहा कि कुछ सप्ताह पहले ही हमारी संसद ने नागरिकता संशोधन कानून को मंजूरी देने का ऐतिहासिक काम किया है. उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस और उसके सहयोगी दल देश में संसद के खिलाफ आंदोलन करने में जुटे हैं।

Leave comment