Editorial :- किस प्रकार के आंदोलनों से लोकतंत्र होगा मजबूत?

24 January 2020

कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे मुखर्जी ने विरोध-प्रदर्शनों के हवाले से कहा कि मेरा मानना है कि देश में शांतिपूर्ण आंदोलनों की मौजूदा लहर एक बार फिर हमारे लोकतंत्र की जड़ों को गहरा और मजबूत बनाएगी।

सीएए-एनपीआर के  विरोध की आड़ में जो भ्रम और झूठी अफवाहे फैलाई जा रही हैं और उसके कारण जो हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं, जिन्ना वाली आजादी के नारे लग रहे हैं, शाहीन बाग में छोटे-छोटे बच्चों के जहन में हिंसा, अलगाववाद के जो जहर घोले जा रहे हैं तथा महिलाओं को आगे कर देश का जो चीरहरण हो रहा है क्या इन सबसे लोकतंत्र को मजबूती मिलेगी?

>> बाल आयोग एनसीपीसीआर ने अपने पत्र में उल्लेख किया है कि सोशल मीडिया में वायरल हो रहे वीडियो  को आयोग ने गंभीरता से लिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट के हवाले से कहा गय है कि वायरल वीडियो में दिखाया जा रहा है कि 16 जनवरी की रिपोर्ट में, रिपब्लिकवल्र्ड .ष्शद्व ने कहा कि विरोध पर एक लड़की ने कहा कि नागरिकों के राष्ट्रीय रजिस्ट्रार (हृक्रष्ट) का उद्देश्य मुसलमानों को मारना और उन्हें हिरासत में शिविरों में रखना है, और प्रदर्शनकारी नरेंद्र मोदी और अमित शाह को मार देंगे।

 आज का एक समाचार है  – हृक्कक्र सर्वेयर समझ पीटा, कुरान आयत सुन कर के छोड़ा।

 यह समाचार पढ़कर मुझे बंगलादेश ढाका में आर्टिसन बेकरी में हुए हमले का स्मरण हो रहा है।

वही हमला, जिसमें 5 हमलावर लोगों से उनके नाम पूछ-पूछ कर उन्हें मार रहे थे. कुरान की आयतें पूछ रहे थे, ताकि ये कंफर्म किया जा सके कि वह शख्स मुस्लिम है. 1 जुलाई 2016 को हुई इस गोलीबारी में 22 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी, जिसमें 17 विदेशी थे. इस हमले को अंजाम देने वाले गरीब घर के नहीं थे, बल्कि ये आतंकी ऐसे परिवारों से थे जो बड़ी-बड़ी गाडिय़ों में चलते थे. छानबीन के बाद पता चला था कि वो इस्लाम पर भाषण देने वाले जाकिर नाइक से प्रभावित थे.

श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट के तार भी जाकिर नाइक से जुड़े हुए पाए गए. श्रीलंका में हुए सिलसिलेवार धमाकों के बाद छानबीन से पता चला कि शांग्री ला होटल में हमला करने वाला आत्मघाती हमलावर एक इस्लामिक आतंकी मौलवी जहरान हाशिम था. यह इमाम नेशनल तौहीद जमात का लेक्चरर था. हाशिम इस्लाम को ही सर्वोपरि मानता था और अन्य धर्म के लोगों के प्रति नफरत दिखाता था. सालों तक वह यूट्यूब वीडियोज के जरिए लोगों को बहकाता रहा. यूट्यूब पर उसने बहुत सारे ऐसे वीडियो डाले, जिससे इस्लाम के नाम पर लोगों को भड़काया जा सके. यहां तक कि वह पूछता था कि श्रीलंका के मुस्लिम डॉक्टर जाकिर नाइक के लिए क्या कर सकते हैं. आखिरकार श्रीलंका के कुछ मुस्लिमों को उसने बरगला लिया और उनके साथ मिलकर इतने बड़े हमले को अंजाम दे दिया.

: >> हम तीन दशकों से पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद को झेल रहे हैं। पाकिस्तान अपने यहॉ छोटे-छोटे बच्चों को आतंकवाद की ट्रेनिंग दे रहा है। इससे अब पाकिस्तान खुद भी परेशान है। इसीकारण वह पेशावर तथा अन्य स्थानों पर डीरेडिक्लाईजेशन सेंटर खोल रहा है।

वहॉ बच्चों को जिहाद के लिये किस प्रकार से उकसाया जा रहा है इसके दो ही उदाहरण देना पर्याप्त है।

: >> 5 अगस्त 2015 को भारत में पकड़े गये पाकिस्तानी आतंकवादी नावेद ने कैमरे पर कबूल किया कि हिन्दुओं क मारने में उसे मज़ा आता है

नावेद ने  यह भी कहा कि “मैं अपना बदला लेने के लिए आया था। मैं केवल अल्लाह का काम कर रहा हूं,”

: >> दूसरा उदाहरण हम पठानकोट आतंकी हमले में शामिल सुसाइड बाम्बर का ले सकते हंै। उसने पाक में बैठी अपनी मां से फोन पर कहा – फिदायीन मिशन पर हूं। उसकी मां ने उससे कहा कि बेटा मरने से पहले खाना खा लेना. जन्नत जायेगा।

अब इसी प्रकार की ट्रेनिंग शिक्षा छोटे-छोटे बच्चों और महिलाओं को सीएए की आड़ में जो प्रदर्शन हो रहे हैं उनमें दी जा रही है। इससे स्पष्ट है कि हम भारत को भी पाकिस्तान जैसा आतंकवाद का स्थल बना देना चाहते हैं।

क्या इससे लोकतंत्र मजबूत होगा? 

Tags :- 1 July 2016, 17 Overseas, Amit Shah, Artisan Bakery, Bangladesh, CAA, CAA-NPR, Camps, Children Commission, Congress, Democracy, Hashim Islam, india, Islamic terrorists, Jinnah Azadi Azadi, Maulvi Zahran Hashim, Mukherjee, Muslim doctor, Muslims, Narendra Modi, National Registrar of Citizens, National Tawheed Jamaat, NCPCR, pakistan, Pakistani terrorist Naved, Pathankot, Separatism, serial blasts, Shaheen Bagh, Shangri La Hotel, Small Children, Social media, Sri Lanka, Sri Lanka Serial Blast, suicide bomber, suicide mission, Terrorism, terrorist attacks, Ut YouTube videos, women, Zakir Naik

Leave comment