केंद्र और राज्य के बीच कई मुद्दों पर टकराव, कोऑपरेटिव फेडरलिज्म के बिना देश नहीं चलता : कमलनाथ

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में मंगलवार को इंटर स्टेट काउंसिल मीटिंग (मध्य क्षेत्रीय परिषद) नवा रायपुर स्थित एक होटल में शुरू हो गई है। बैठक में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी शामिल हैं। इस बैठक में चारों राज्यों के साथ उनके आंतरिक मुद्दों को लेकर सामंजस्य बनाने पर चर्चा की जाएगी। बैठक नवा रायपुर स्थित एक होटल में होगी। बैठक के बाद इस संबंध में मीडिया को जानकारी दी जाएगी।

टकराव के कारण देश ठीक ढंग से नहीं चल सकता
रायपुर के स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट पर पहुंचे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार जिस कोऑपरेटिव फेडरलिज्म की बात करती है, इसका उदाहरण आज हम सब इस बैठक में देखेंगे। उन्होंने कहा कि कोऑपरेटिव फेडरलिज्म (सहयोगी संघवाद) के बगैर देश चल नहीं सकता। देश की सबसे बड़ी आवश्यकता है कि केंद्र और राज्य के बीच समन्वय बना रहे। बहुत सारे ऐसे मुद्दे होते हैं, जो केंद्र और राज्य के बीच टकराव का कारण बनते हैं। इससे न केवल देश को हानि होती है, बल्कि देश ठीक ढंग से चल नहीं सकता।

एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अगुआई की
रायपुर पहुंचे केंद्रीय गृहमंत्री शाह समेत अन्य प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों की अगुआई के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल स्वयं पहुंचे। उन्होंने एयरपोर्ट पर बुके देकर सबका स्वागत किया। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ.रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, अमर अग्रवाल समेत भाजपा के नेता भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि चार राज्यों के सीएम इस बैठक के लिए आ चुके हैं। बैठक में केंद्र सरकार के साथ राज्यों के बीच और राज्य के आंतरिक मसलों पर चर्चा होगी। पिछली बैठक में लिए गए फैसलों का एक्शन टेकन रिपोर्ट भी इस बैठक में रखी जाएगी और समीक्षा होगी।

Leave comment