Editorial :- एक और विभाजन की पृष्ठभूमि तैयार करती कांग्रेस

31 January 2020

जिन्ना वाली मुस्लिम लीग का केरल में रूपांतर? उससे कांग्रेस का गठबंधन। वायनाड से राहुल गांधी लोकसभा का चुनाव लड़े मुस्लिम लीग के समर्थन से।

शाहीनबाग में जो  कहा जा रहा है उसी तरह  राहुल ने वायनाड के कलपट्टा में कहा, “भारतीयों से कहा जा रहा है कि साबित करो तुम भारतीय हो, नरेंद्र मोदी कौन होते हैं ये तय करने वाले कि मैं भारतीय हूं? उन्हें किसने लाइसेंस दिया कि तय करें कौन भारतीय है और कौन नहीं? मैं जानता हूं कि मैं भारतीय हूं और मुझे यह किसी को साबित करने की जरूरत नहीं है.”

उक्त झूठ बोलकर राहुल गांधी वल्र्ड लॉयर कॉम्पिटिशन में भाग लेना चाहते हैं।

दुनिया का सबसे बड़ा रुद्बड्डह्म् , ष्टह्वद्वड्ढह्म्द्बड्ड, इंग्लैंड में आयोजित झूठ बोलने की एक वार्षिक प्रतियोगिता है । …

विश्व की सबसे बड़ी झूठे प्रतियोगिता विल क्रद्बह्लह्यशठ्ठ (1808-1890), ङ्खड्डह्यस्रड्डद्यद्ग से एक पब मकान मालिक, जो अच्छी तरह से अपने ‘लंबी कहानियों “के लिए जाना जाता था की स्मृति में ब्रिज इन, स्ड्डठ्ठह्लशठ्ठ ब्रिज में प्रत्येक नवंबर आयोजित किया जाता है,।

>> सीएए पर शशि थरूर ने बोले- भारत में जिन्ना के विचारों की जीत हो रही है,

 27 छ्वड्डठ्ठह्वड्डह्म्4, 2020  जयपुर/नई दिल्ली: वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि अगर संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का रास्ता राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की तरफ जाता है तो यह पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की पूरी तरह से जीत होगी.

शशि थरूर के इस बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी के नेता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा अगर शशि थरूर को लगता है कि देश में एक बार फिर से जिन्ना का दर्शन हावी हो रहा है तो उन्हें अपने नेता राहुल जिन्ना को इस सवाल का जवाब देना चाहिए, यह राहुल गांधी और उनका पूरा परिवार है जिसने जिन्ना की तरह विभाजनकारी राजनीति की है.

>> आज शाहीन बाग  में अहिंसात्मक होने का संदेश देने महिला प्रदर्शनकारियों ने लगाए महात्मा गांधी के मुखौटे।

यहॉ यह उल्लेखनीय है कि इन्हीं प्रदर्शनकारियों ने आज ही जी न्यूज़ के पत्रकार और फोटोग्राफर की पिटाई की है और उनका कैमरा आदि भी तोड़ दिये हैं।

यहॉ यह भी उल्लेख करना आवश्यक है कि प्रदर्शनकारियो के इसी मुद्दे पर उत्तरप्रदेश और दिल्ली के अनेक स्थानों पर हिंसात्मक प्रदर्शन हो चुके हैं।

इन प्रदर्शनों को आयोजित करने में पीएफआई का हाथ है इसका प्रमाण भी यूपी की पुलिस और भारत की जांच एजेंसियों के पास है। १२० करोड़ का फंड भी पीएफआई ने इकट्ठा करके वितरित किया है यह भी मीडिया में रिपोर्ट आ चुकी है।

पीएफआई के कई सदस्य प्रदर्शन में हिंसा करने के आरोप में गिरफ्तार भी हो चुके हैं।

ये प्रदर्शन जेएनयू, जामिया और अलीगढ़ युनिवर्सिटी में विशेषरूप से हुए हैं।

इन सभी प्रदर्शनों में टुकड़े-टुकड़े गैंग सक्रिय है।

 जेएनयू में अफजल गुरू  की शहादत के नाम पर लगाये गये थे नारे: कश्मीर मांगे आजादी, केरल मांगे आजादी, बस्तर मांगे आजादी….. भारत की बर्बादी तक संघर्ष रहेगा जारी।

यहॉ यह भी बताना जरूरी है कि ये नारे लगाये जाने के दूसरे दिन ही नारे लगाने वाले छात्रों की पीठ थपथपाने के लिये राहुल गांधी पहुंचे थे केजरीवाल और वामपंथी नेताओं के साथ।

>>आज शाहीनबाग के प्रदर्शनकारियों ने जो गांधी के मुखौटे लगाये हैं उनके पीछे क्या छिपा है? किसके चेहरे छिपे हैं? यह समझने के लिये तीन पोस्टर का उल्लेख यहॉ है :

१. कुछ समय पहले हैदराबाद यूथ कांगे्रस ने बिना कश्मीर के भारत का नक्शे वाले बैनर लगाये थे। मुंबई में भी अभी जो सीएए के विरोध में प्रदर्शन हुए थे उसमें भी फ्री कश्मीर की तख्ती लहराई गई थी। यही कृत्य दिल्ली और मैसूर में भी दोहराया गया था।

२. नवाज शरीफ जब पाकिस्तान में दूसरी बार प्रधानमंत्री बने तब कांग्रेस और मुस्लिम लीग ने केरल में बैनर पोस्टर लगाये थे उसमें इन पार्टी के नेताओं के साथ नवाज शरीफ की भी फोटो भी थी।

३. इसी प्रकार से कुख्यात नार्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंंग के साथ में सीपीएम के सिंबाल सहित केरल में पोस्टर बैनर लगाये गये थे।

इससे समझा जा सकता है कि महात्मा गांधी के मुखौटों के पीछे, गांधी सरनेम के बहाने, किस प्रकार से हिंसात्मक और अलगाववादी  और विभाजनकारी गतिविधियां सीएए के विरोध में हो रही हैं। इसलिये हमें न तो गांधी सरनेम से प्रभावित होना चाहिये न ही मोदी सरनेम से प्रभावित होना चाहिये। पीएम मोदी क्या कर रहे हैं और गांधी सरनेम धारी राहुल गांधी क्या कर रहे हैं उनके क्रियाकलापों को समझकर हमें अपनी धारणा बनानी चाहिये।

Tags :- Afzal Guru, Bharatiya Janata Party, CAA, Congress, CPM, dictator Kim, GVL Narasimha Rao, Indians, Jamia and Aligarh University, Jinnah, Kejriwal and Left leaders, Kerala, Lok Sabha, Mahatma Gandhi, Mohammad Ali Jinnah, Muslim League, Narendra Modi, National Population Register, Nawaz Sharif, NPR, NRC, pakistan, PFI, rahul, Rahul Gandhi, Shaheenbagh, Shashi Tharoor, Symbals of JNU, Wayanad, World Lawyers Competition

Leave comment