Editorial :- राहुल और अधीर रंजन चौधरी ने आज इमरान के सुर में सुर क्यों मिलाया?

6 February 2020

आज इमरान खान ने पीओके की असेंबली में जो कुछ कहा उसी लहजे में आज लोकसभा में कांगे्रस के नेता अधीररंजन चौधरी ने कहा है। इसी प्रकार से दिल्ली में चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी ने भी प्रधानमंत्री मोदी पर अभद्र टिप्पणी की है।

>>. पीएम मोदी के लिए राहुल के बिगड़े बोल, कहा- युवा इसको डंडा मारेंगे

>> इमरान खान ने पीएम मोदी के खिलाफ  जहर उगला, कहते हैं पाक को कोसते हुए रुस् पोल जीता; धारा 370 को ‘घातकÓ बताते हुए..

>> कांग्रेस सांसद अधीर रंजन ने फिर कहा कश्मीर आंतरिक मामला नहीं, क्कश्य पर ऐक्शन नहीं ले सकता भारत

इससे ऐसा प्रतीत होता है कि राहुल गांधी और अधीर रंजन चौधरी इमरान खान के बायें और दायें हाथ हैं। या यूं कहिये कि राहुल गांधी और अधीर रंजन चौधरी अर्थात कांग्रे्रस इमरान खान के हाथों की कठपुतली बने हुए हैं। इसे इस प्रकार से भी कह सकते हैं कि कांग्रेस का हाथ पाकिस्तान के साथ।

राहुल गांधी,अधीर रंजन और इमरान खान की उक्त टिप्पणी पहली बार नहीं है । इसके पहले भी कांग्रेस के नेता और पाकिस्तान के नेता इसी प्रकार की मिलती जुलती टिप्पणी करते रहे हैं। इन सबका टारगेट सिर्फ भारत के प्रधानमंत्री मोदी रहे हैं और हैं।

सोनिया गंाधी और राहुल गांधी के निर्देश पर पाकिस्तान में भारत के पूर्व विदेशमंत्री सलमान खुर्शीद भी जा चुके हैं। वहॉ जाकर वे भारत की मोदी सरकार को कोसा और पाकिस्तान की सरकार की प्रशंसा में कसीदे गढ़े थे।

इसी प्रकार से सोनिया गांधी और राहुल गांधी के ही निर्देश पर मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान गये थे और उन्होंने वहॉ के एक टीवी चैनल में दिये गये साक्षात्कार में कहा था कि उन्हें भारत की मोदी सरकार को हटाने के लिये पाकिस्तान सरकार की मदद चाहिये। इस पर टीवी ऐंकर ने पूछा क्या इसका मतलब आईएसआई की मदद चाहते हैं?

नवजोत सिंह सिद्धृू भी इमरान खान मेरा यार दिलदार कहे थे और वहॉ आर्मी चीफ बाजवा से भी गले मिले थे।

अभी जेएनयू से लेकर जामिया शाहीनबाग तक भारत के अल्पसंख्यक समुदाय को अलगाववाद के लिये उकसाकर पीएफआई जैसी भारतविरोधी ताकतों की मदद से जो हिंसक अहिंसक प्रदर्शन हुए हैं और हो रहे हैं वे पाकिस्तान की सरकार आईएसआई और वहॉ की सेना के इशारे पर ही हो रहे हैं।

इमरान खान ने अपने उस वक्तव्य में यह स्पष्ट किया है कि नरेन्द्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान को बलि का बकरा बनाकर अर्थात पाकिस्तान के विरूद्ध जहर उगलकर जनादेश प्राप्त किया था।

अब राहुल गांधी और अधीररंजन चौधरी के वक्तव्यों से यह झलक मिलती है कि कांग्रेस भी मोदी के विरूद्ध जहर उगलकर भारत के मुस्लिमों को अलगाववाद की ओर ढकेलकर गृहयुद्ध की स्थिति उत्पन्न कर सत्ताप्राप्त की जा सकती है। इसके लिये जिस प्रकार से जिन्ना से हाथ मिलकार पंडित नेहरू ने धार्मिक आधार पर भारत का बटवारा कर सत्ता सम्हाली थी उसी प्रकार से भारत से असम, कश्मीर आदि को अलग कर शेष भारत पर कांगे्रस सत्तारूढ़ हो सकती है।

इसी कारण से जेएनयू में आजादी तथा भारत की बर्बादी तक संघर्ष रहेगा जारी के नारे लगाये थे  नारे लगे थे और उनकी पीठ थपथपाने के लिये राहुल गांधी, केजरीवाल और वामपंथियों के साथ पहुंच गये थे उसी प्रकार से अब जो प्रयोग जामिया और शाहीनबाग में हो रहा है उसका समर्थन ये ही तत्व कर रहे हैं।

भारत की १३० करोड़ जनता को राष्ट्र की एकता बनाये रखना होगा और अलगाववादी वोटबैंक की राजनीति करने वाले नेताओं से सावधान रहना होगा।

Tags :- Adhir Ranjan, Adhiranjan Choudhary, assembly, Congress, Congress MP, delhi, Foreign Minister Salman Khurshid, Imran Khan, Jamia, Jamia and Shaheenbagh, JNU, Lok Sabha, Mani Shankar Iyer, Modi Government, Narendra Modi, Navjot Singh Sidhu, pakistan, Pandit Nehru, PFI, POK, POK manishakar Imran Khan, Prime Minister Modi, rahul adheranjan on hand imran POK, rahul danda, Rahul Gandhi, Section 370, Shaheenbagh, Sonia Gandhi

Leave comment