Editorial :- दिल्ली में बढ़ा बीजेपी का वोटशेयर और कांग्रेस से अधिक बीजेपी को मिले मुस्लिम वोट।

आईएएनएस-सी वोटर एग्जिट पोल के अनुसार, बीजेपी के वोट शेयर में पिछले विधानसभा चुनावों के मुकाबले बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। पार्टी का वोट शेयर 32.2 फीसदी से बढ़कर 36 फीसदी होने का अनुमान है।

कुछ अन्य सर्वे में बीजेपी का वोट शेयर ३९ प्रतिशत तक जा सकता है।

बीजेपी को मिले कांग्रेस से ज्यादा मुस्लिम वोट – आईएएनएस-सीवोटर के ही एग्जिट पोल के नतीजों के अनुसार, दिल्ली में मुस्लिम  समुदाय के 18.9 फीसदी मतदाताओं ने बीजेपी के पक्ष में और 14.5 फीसदी कांग्रेस के पक्ष में मतदान किया। सर्वेक्षण में दिल्ली के सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों से 11,839 मतदाताओं को शामिल किया गया।

>> ‘पीकेÓ के मीडिया मैनेजमेंट से उपजे दिल्ली के श्व&द्बह्ल क्कशद्यद्यह्य?: उनकी ही कोर टीम के सदस्य का बड़ा खुलासा

2014 में मोदी की लोकप्रियता भुना कर अपना उल्लू सीधा करने के बाद प्रशांत किशोर बिहार पहुँचे। मीडिया ने ऐसा प्रचारित किया कि वो राजनीति ‘चाणक्यÓ हो गए हैं और उनसे बड़ा चुनावी रणनीतिकार कोई है ही नहीं। अब सवाल उठता है कि क्या उन्होंने मीडिया को बड़े स्तर पर मैनेज किया?

नए श्व&द्बह्ल क्कशद्यद्य में भाजपा को पूर्ण बहुमत, दोपहर 3 बजे के बाद पलट गया था गेम

फेज-1 में दोपहर 3 बजे तक के आँकड़े हैं, जिनके अनुसार केजरीवाल की पार्टी 15-20त्न ज्यादा वोटों के साथ भाजपा से आगे होगी। अधिकतर एग्जिट पोल्स में इसके बाद का हिस्सा छोड़ दिया गया। इस एग्जिट पोल के आँकड़ों पर नजऱ डालें तो दूसरे फेज में भाजपा ने ्र्रक्क पर 30-40त्न वोटों की लीड बना ली।

हाल ही में दिल्ली में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की जीत की भविष्यवाणी लगभग सभी एग्जिट पोल्स द्वारा की जा रही है। अधिकतर एग्जिट पोल कह रहे हैं कि केजरीवाल की पार्टी प्रचंड जीत के साथ सत्ता में लौटेगी। लेकिन, इसी बीच एक ऐसा एग्जिट पोल भी आया है जिसमें भाजपा को बहुमत मिलता दिख रहा है। चिंतामणि-5 डॉट्स के एग्जिट पोल के अनुसार, दिल्ली में भाजपा आगे जा सकती है और आम आदमी पार्टी उससे पीछे हो सकती है। इस एग्जिट पोल में भाजपा को 27-39 सीटें दी गई हैं, वहीं ्र्रक्क को 31-43 सीटें मिलने की सम्भावना जताई गई है।

ये आँकड़े ‘एलेक्शंस डॉट इनÓ पर प्रकाशित हुए।जहाँ तक कॉन्ग्रेस पार्टी की बात है, बाकी एग्जिट पोल्स की तरह इसमें भी उसका पत्ता गोल होता हुआ नजऱ आ रहा है और पार्टी का खाता खोलना भी मुश्किल लग रहा है। उसे 0-2 सीटें दी गई है। रिसर्च की मानें तो अंतिम 2 घंटों में वोटिंग प्रतिशत में जो बड़ी बढ़ोतरी हुई है, उससे भाजपा को भारी फायदा होने जा रहा है। ग्राउंड रिपोर्ट के हवाले से दावा किया गया है कि आम आदमी पार्टी और कॉन्ग्रेस को मिलने वाले वोटों में कमी आएगी।

इस एग्जिट पोल में उस हिस्से को कवर किया गया है, जो बाकी एग्जिट पोल्स ने छोड़ दिया। यानी 3 बजे के बाद हुए वोटिंग का डेटा। पोलिंग को 2 भाग में बाँटा गया है। फेज-1 में दोपहर 3 बजे तक के आँकड़े हैं, जिनके अनुसार केजरीवाल की पार्टी 15-20त्न ज्यादा वोटों के साथ भाजपा से आगे होगी। अधिकतर एग्जिट पोल्स में इसके बाद का हिस्सा छोड़ दिया गया। इस एग्जिट पोल के आँकड़ों पर नजऱ डालें तो दूसरे फेज में भाजपा ने ्र्रक्क पर 30-40त्न वोटों की लीड बना ली।

>> चिंतामणि एकमात्र ऐसा एग्जिट पोल है, जिसमें भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलने की सम्भावना जताई गई है। बता दें कि लोकसभा चुनाव के बाद चिंतामणि ने भाजपा को 297 सीटें मिलने की सम्भावना जताई थी। भाजपा इन आँकड़ों से आगे निकल कर 303 सीटें जीत गई लेकिन दोनों नंबरों के बीच ज्यादा अंतर नहीं था। ऐसे में काफ़ी लोगों को चिंतामणि के एग्जिट पोल पर भरोसा जताया।

>> नवोदय टाईम्स में कुमार आलोक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार : दिल्ली चुनाव: कांटे की टक्कर में खिला कमल तो श्रेय पूरा अमित शाह को!

उक्त विश£ेषणों से पता चलता है कि…

१. कांग्रेस से ज्यादा मुस्लिम वोट भाजपा को मिले हैं। आईएएनएस-सी वोटर एक्जिट पोल के अनुसार।

२. दोहर तीन बजे के बाद के रात्रि के ८ बजे तक हुए मतदान में भाजपा ने आप पर ३०-४० प्रतिशत वोटों की लीड बनाई है।

३.चुनाव में हार देखकर आप पार्टी ने ईवीएम पर फिर से ठीकरा फोड़ा है अर्थात संदेह जताया है।

इससे ऐसा प्रतीत होता है कि आप पार्टी को बीजेपी कड़ी ट्क्कर दे रही है और दोनों में से कोई भी पार्टी सत्ता पर काबिज हो सकती है।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.