रहाणे ने कहा- पंत के लिए जरूरी है कि मुश्किल दौर को स्वीकारें, वे अपने खेल को निखारने पर ध्यान दें

भारतीय टेस्ट टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने गुरुवार को विकेटकीपर ऋषभ पंत को लेकर बयान दिया है। रहाणे ने कहा कि पंत के लिए जरूरी है कि वे मुश्किल दौर को स्वीकार करें। साथ ही वे अपने खेल को निखारने पर ध्यान दें। दरअसल, महेंद्र सिंह धोनी वर्ल्ड कप 2019 के बाद से क्रिकेट से दूर हैं। उनकी गैरमौजूदगी में पंत को तीनो फॉर्मेट (वनडे, टी-20 और टेस्ट) में मौका दिया गया था। लेकिन, खराब फॉर्म के चलते वनडे और टी-20 में पंत की जगह लोकेश राहुल ने ले ली। वहीं, टेस्ट में ऋद्धिमान साहा को विकेटकीपर के तौर पर शामिल किया गया है।

भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो टेस्ट की सीरीज का पहला मैच शुक्रवार को वेलिंगटन में खेला जाएगा। इसके लिए दोनों ही खिलाड़ी भारतीय टीम में शामिल हैं। पंत ने पिछले 5 टी-20 और 4 वनडे में 197 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने बतौर विकेटकीपर 2 कैच और 4 स्टंप आउट किए हैं।

सकारात्मक तौर पर सीखने की कोशिश करें

रहाणे ने कहा, ‘‘यह बहुत जरूरी है कि आप जिस भी दौर से गुजर रहे हैं, उसे स्वीकार करें। इसे सकारात्मक तौर पर ही लें। साथ ही हर एक खिलाड़ी से सीखने की कोशिश करें। बात सीनियर या जूनियर की नहीं है। कोई भी खिलाड़ी बाहर नहीं बैठना चाहता है, लेकिन हर एक मैच में टीम की जरूरत को समझना चाहिए। हमें हर स्थिति को स्वीकार करना होगा। इसके बाद कड़ी मेहनत करें और क्रिकेटर के तौर पर अपने खेल में निखार लाएं।’’

खिलाड़ी को अपनी भूमिका पता होना चाहिए: रहाणे

रहाणे ने कहा, ‘‘एक खिलाड़ी के तौर पर आपको अपने खेल पर ध्यान देना चाहिए। इसके बाद आप भविष्य में मिलने वाले मौके पर नजर रखें। यह स्वीकार करना जरूरी है कि आप कहां खड़े हैं। ऋषभ टीम में 6 या 7 नंबर पर बल्लेबाजी करते हैं। इसलिए जब भी मौका मिले, तब उन्हें विशेष ध्यान देना चाहिए और अपनी भूमिका पता होना चाहिए। यह बहुत ही आसान है।’’

भारतीय टेस्ट टीम: विराट कोहली (कप्तान), मयंक अग्रवाल, पृथ्वी शॉ, शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे (उपकप्तान), हनुमा विहारी, ऋद्धिमान साहा (विकेटकीपर), ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा, जसप्रीत बुमराह, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, नवदीप सैनी, इशांत शर्मा।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.