Editorial :- ट्रंप के दौरे से 24 घंटे पहले साजिश की बू

24 February 2020

CAA पर हिंसा- कांग्रेस के शत्रुघ्र सिन्हा की पाक में वहॉ के राष्ट्रपति से मुलाकात

क्या टं्रप की भारत यात्रा के पूर्व  कांग्रेस के शत्रुघ्र सिन्हा का पाकिस्तान में जाकर  वहॉ के राष्ट्रपति से मुलाकात करना एक सुनियोजित तो नहीं है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी के निर्देश पर इसके पूर्व भी नवजोत सिंह सिद्धूू और मणिशंकर अय्यर जाकर भारत की मोदी सरकार के विरूद्ध जहर ऊगल चुके हैं।

नागरिकता संशोधन कानून  के खिलाफ २२ फरवरी २०२० शनिवार देर शाम से अचानक नए सिरे से विरोध-प्रदर्शन शुरू हो चुके हैं,पिछले 24 घंटे के दौरान घटी घटनाओं की कडिय़ों को जोड़कर देखने पर जेहन में सवाल उठता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के दौरे से ठीक पहले कहीं ये सुनियोजित विरोध-प्रदर्शन तो नहीं है।

एक सोची समझी साजिश के तहत ही वजाहत हबीबुल्लाह ने दायर किया है स्ष्ट में हलफनामा, कहा- शांतिपूर्ण है शाहीनबाग धरना, पुलिस ने बेवजह बंद किए रास्ता।

सीएए के विरोध में एक सुनियोजित तरीके से  सिर्फ अलीगढ़़, जेएनयू जामिया से तक जो हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं उसका केंद्रस्थल शाहीनबाग में केन्द्रित प्रदर्शन है। शाहीनबाग प्रदर्शन शांत है तो फिर उसके इर्द-गिर्द हिंसा क्यों? वजाहत हबीबुल्लाह खा क्या जनता को बेवकूफ समझते हैं?

यह सब कुचक्र सीएए के प्रति अहसमति नहीं है लोकतंत्र की मजबूती के लिये नहीं है बल्कि देश विरोधी अलगाववाद अर्थात विभाजनकारी कृत्य है।

शाहीनबाग के एक आयोजक शरजील इमाम भारत को इस्लामिक देश में परिवर्तित करने की दिशा में चिकलगलियारे को काटकर असम और भारत के अन्य पूर्वी क्षेत्रों को अलग कर इस्लामिक क्षेत्र बनाने का आव्हान करना शाहीनबाग के मंत्र से क्या शांति के लिये है?क्या  यह सीएए के प्रति असहमति है?

शाहीनबाग के मंच पर कांग्रेस के नेता शशि थरूर विराजमान होते हैं और वहॉ जिन्ना वाली आजादी के नारे लगते हैं। अभी बैंगलोर में ओवैसी के मंच से उनके दाहिने हाथ वारिस पठान १०० करोड़ पर भारी पड़ेंगे १५ करोड़… शाहीनबाग में शेरनियों से ही पसीने छूट रहे हैँं यदि शेर आए…….

शाहीनबाग के मंच से ही कांग्रेस के नेता मणिशंकर अय्यर पीएम मोदी को कातिल कहते हैं।

बावजूद इसके वजाहत हबीबुल्लाह शाहीनबाग को शांति का स्थल मानते हैं। वजाहत हबीबुल्लाह खा क्या जनता को बेवकूफ समझते हैं?

उक्त घटनाक्रम को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि सच हुई पीएम की भविष्यवाणी, जाफराबाद ने साबित किया, शाहीनबाग संयोग नही प्रयोग

पीएम मोदी ने दिल्ली चुनाव के दौरान  साफ़ इशारा किया था कि आज एक सड़क रोकी है कल दूसरी सड़क रोकेंगे। जाफराबाद में यही होता दिखाई दे रहा है।

भले ही अभी की पाकिस्तान यात्रा कांग्रेस के नेता शत्रुघ्र अपनी व्यक्तिगत यात्रा बता रहे हों जैसे कि पूर्व में इमरान खान के स्वागत समारोह में सम्मिलित होते समय सिद्धू ने बताया था। परंतु वास्तव में देखा जाये तो ये देानों ही यात्राएं   कांग्रेस हाईकमांड अर्थात सोनिया गांधी और राहुल गांधी के निर्देश पर हुई है।

इतना ही नहीं सोनिया गंाधी और राहुल गांधी के निर्देश पर मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान जाकर वहॉ भारत की मोदी सरकार को हटाने के लिये मदद मांगी थी।

 कांग्रेस नेता और बॉलीवुड एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा ने शनिवार को पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से मुलाकात की है. शत्रुघ्न सिन्हा और आरिफ अल्वी की यह मुलाकात लाहौर में एक शादी समारोह में हुई है.

पाक राष्ट्रपति कार्यालय से ट्वीट किया गया, “भारतीय नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से लाहौर में आज मुलाकात की. उन्होंने दोनों देशों के बीच शांति का पुल बनाने के महत्व पर चर्चा की. सिन्हा ने कश्मीर में 200 से अधिक दिनों के लॉकडाउन पर राष्ट्रपति की चिंता का समर्थन किया.”

उक्त सब घटनाओं अर्थात सिद्धू, मणिशंकर अय्यर और अब शत्रुघ्र सिन्हा की पाक यात्रा के तार शाहीनबाग से जुड़ते हुए दिखाई दे रहे हैं।

Tags :- America, Arif Alvi, Lahore, Lock Down, modi, Modi Friend Trump, Pak President, Reema Khan, Shatrughan Sinha in Pakistan, Trump, Trump in India

Leave comment