फ्रेंचाइजीस ने कहा- सरकार वीजा जारी करे तो भारत आने वाले विदेशी खिलाड़ियों को 14 दिन क्वारैंटाइन करने के लिए तैयार

इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजियों ने साफ कर दिया है कि अगर सरकार भारत में आने वाले विदेशी खिलाड़ियों को वीजा जारी करे तो वह 14 दिन इन्हें क्वारैंटाइन करने के लिए तैयार है। यह फैसला फ्रेंचाइजियों और बीसीसीआई की सोमवार को हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिग में लिया गया। एक फ्रेंचाइजी ने न्यूज एजेंसी को इसकी पुष्टि की है। इस बीच, केंद्र सरकार ने सोमवार को ही एडवायजरी जारी कर यूएई, कतर, ओमान और कुवैत से आने वाले यात्रियों को कम से कम 14 दिन के लिए क्वारैंटाइन करने का फैसला किया है। अभी इसे 31 मार्च तक के लिए लागू किया गया है।

फ्रेंचाइजी ने न्यूज एजेंसी को बताया कि हां, ताजा जारी एडवायजरी में कुछ देशों से भारत आने वाले नागरिकों को 14 दिन क्वारैंटाइन करने के लिए कहा गया है। अगर 31 मार्च के बाद भी सरकार का यही रुख रहता है, तो इससे भी हमें कोई परेशानी नहीं है। बस, विदेशी खिलाड़ियों को जल्दी वीजा जारी हो जाए, ताकि उन्हें अप्रैल के पहले हफ्ते में भारत लाया जा सके। अगर ऐसा होता है तो इन्हें टूर्नामेंट शुरू होने से पहले 14 दिन के लिए क्वारैंटाइन किया जा सकता है। हालांकि, इसके लिए हमें 31 मार्च तक इंतजार करना होगा। क्योंकि तब तक सरकार ने यात्रा प्रतिबंध लगाए हुए हैं।

विदेशी खिलाड़ियों को मौसम से तालमेल बैठाने के लिए 5 दिन का वक्त देना होगा

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मौजूद आईपीएल के एक पदाधिकारी ने बताया कि बैठक में टूर्नामेंट के भविष्य को लेकर तो कोई फैसला नहीं हुआ। लेकिन यह तय हुआ कि भारत आने के बाद विदेशी खिलाड़ियों को मौसम से तालमेल बैठाने के लिए कम से कम 5 दिन का वक्त देना होगा। फिलहाल तो हम बस हालात सुधरने की उम्मीद कर सकते हैं, ताकि केंद्र सरकार विदेशी खिलाड़ियों के साथ टूर्नामेंट कराने की जरूरी मंजूरी दे सके।

सरकार ने 15 अप्रैल तक वीजा प्रतिबंध लगाए, आईपीएल भी तब तक के लिए रोका गया
केंद्र सरकार ने पिछले हफ्ते ही कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बाद यात्रा और वीजा से जुड़े कुछ प्रतिबंध लगाए थे। इसके तहत भारत आने वाले विदेशी नागरिकों के वीजा 13 मार्च से 15 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड किए गए हैं। सिर्फ डिप्लोमैटिक, ऑफिशियल, यूएन और अंतरराष्ट्रीय संस्थान, प्रोजेक्ट और एम्प्लॉयमेंट वीजा को ही छूट दी गई है। आईपीएल में आने वाले विदेशी खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ को बिजनेस वीजा मिलता है। ऐसे में आईपीएल की 8 टीमों में शामिल 64 खिलाड़ियों को 15 अप्रैल तक देश में आने की अनुमति नहीं है।

आईपीएल का 13वां सीजन छोटा होगा : गांगुली

खेल मंत्रालय ने 12 मार्च को यह साफ कर दिया था कि कोरोनोवायरस के मद्देनजर सभी खेल टूर्नामेंट को टाल दिया जाना चाहिए। अगर ऐसा मुमकिन न हो तो फिर बिना दर्शकों के स्टेडियम में खेल गतिविधियां हों। इसके 1 दिन बाद बीसीसीआई की बैठक में आईपीएल को 15 अप्रैल तक टालने का फैसला लिया गया था। तब बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा था कि अगर हालात सुधरते हैं तो आईपीएल होगा, लेकिन 13वां सीजन छोटा होगा। क्योंकि पहले ही 15 दिन की देरी हो चुकी है। फिलहाल यह तय नहीं है कि टूर्नामेंट कितना छोटा होगा, कितने मैच कम होंगे। हर हफ्ते हालात की समीक्षा की जाएगी। हम आईपीएल करवाना चाहते हैं, लेकिन लोगों की सुरक्षा प्राथमिकता है।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.