Editorial :- हिन्दू धर्म में पशु-पक्षी भगवान से निकटता से जुड़े हैं  VS  ग्रेंड फॉदर ऑफ ग्लोबल कोरोना-जिहाद

9 June 2020

जिस प्रकार से पाकिस्तान के जिया उल हक को ग्रेंड फॉदर ऑफ ग्लोबल जिहाद कहा जाता है उसी प्रकार से अब चाईना के राष्ट्रपति भी चर्चित हो चुके हैं कि वे ग्रेंड फॉदर ऑफ ग्लोबल   ेेकोरोना-जिहाद? 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चाईना में चमगादड़ों के खाने से कोरोना वायरस पहले वहॉ चीन में फैला फिर बाद में चीन ने इसे पूरे विश्व में फैलाया। चीन में जिंदे पशु-पक्षियों को भी खा लिया जाता है। इस प्रकार के वीडियो वायरल हुए हैं। चाईना में  हर प्रकार के पशुपक्षियों के बूचडख़ाने बाजार देखे जा सकते हैं। 

इसी चाईनीज संस्कृति का असर है कि हमारे यहॉ भारत में भी मानवता को तार-तार करने वाली पशु-पक्षियों के ऊपर क्रूरता पूर्व व्यवहार की घटनाएं देखने को मिल रही हैं। 

जानवरों के साथ होती वीभत्सता की आए दिन नई तस्वीर सामने आ रही। केरल में पशुओं के साथ दुव्र्यवहार का एक बेहद शर्मनाक मामला सामने आया है. दरअसल, यहां शनिवार को एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई।

अभी हमने असम से वायरल हुए वीडियो में एक तेंदुए के साथ इंसानी क्रूरता के उदाहरण को देखा ही था। तभी, एक कुतिया का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।  वीडियो में एक व्यक्ति बदहवास तरीके से कुतिया को कुल्हाड़ी से मारता दिख रहा है। मानवता को तार-तार कर देने वाली इस प्रकार की क्रूर घृणित अनेक घटनाएं है।  

भारत और नेपाल के हिंदू आमतौर पर जानवरों की पूजा करते हैं

हिंदू धर्म एकमात्र ऐसा धर्म है जिसमें विभिन्न जानवर भगवान से निकटता से जुड़े हैं, और कुछ को उनमें से एक के रूप में पूजा जाता है। हिंदू धर्म में, यह कहा जाता है कि जब ब्रह्मा ने जानवरों का निर्माण किया, तो उन्होंने उनमें से प्रत्येक में एक विशिष्ट रहस्य छिपा दिया जो मनुष्यों को उनके आध्यात्मिक महत्व को दर्शाता है। हिंदू सभी जीवित प्राणियों को पवित्र-स्तनधारी, मछलियां, पक्षी और अधिक मानते हैं। हम गाय के प्रति अपने विशेष स्नेह में जीवन के लिए इस श्रद्धा को स्वीकार करते हैं। नेपाल और भारत, हिंदू बहुल देश होने के नाते, विभिन्न जानवरों की पूजा करते हैं और कुछ का उल्लेख यहां किया गया है।

ईएम फोस्र्टर जैसे कई पश्चिमी लेखकों ने भारतीय संस्कृति में जानवरों की शक्तिशाली उपस्थिति पर आश्चर्य व्यक्त किया है। उनका उपन्यास ‘पैसेज टू इंडियाÓ जानवरों को प्रेरक विकास के रूप में चित्रित करता है, जानवरों और मनुष्यों के बीच एकता और प्रेम को बढ़ावा देता है और भारतीय संस्कृति के विदेशी प्रतीकों के रूप में दिखाया गया है। इन प्रतीकों का उपयोग भारत के वन परिदृश्य और धन की अतुलनीय विविधता को साबित करता है। हिंदू धर्म में कई जानवरों से संबंधित देवताओं की पूजा की जाती है। इनमें से सबसे लोकप्रिय गणेश हैं जिनमें एक हाथी का सिर है और हनुमान एक वानर शरीर वाले हैं। गणेश विघ्नहर्ता, बुद्धि और शुभता के देवता हैं, जबकि हनुमान शक्ति, एकांगी भक्ति और शक्ति के लिए खड़े हैं।

गणेशजी का वाहन मूषक : भगवानों ने अपनी सवारी बहुत ही विशेष रूप से चुनी। उनके वाहन उनकी चारित्रिक विशेषताओं को भी बताते हैं। शिवपुत्र गणेशजी का वाहन है मूषक। मूषक शब्द संस्कृत के मूष से बना है जिसका अर्थ है लूटना या चुराना।

सांकेतिक रूप से मनुष्य का दिमाग मूषक, चुराने वाले यानी चूहे जैसा ही होता है। यह स्वार्थ भाव से गिरा होता है। गणेशजी का चूहे पर बैठना इस बात का संकेत है कि उन्होंने स्वार्थ पर विजय पाई है और जनकल्याण के भाव को अपने भीतर जागृत किया है।

वैज्ञानिक मानते हैं कि मनुष्य और चूहे के मस्तिष्क का आकार प्रकार एक समान है। चूहे का किसी न किसी रूप में मनुष्य से कोई सबंध जरूर है उसी तरह जिस तरह की चूहे और हाथी का।

देवी-देवताओं के वाहन

प्रत्येक देवी और देवता का एक वाहन होता है। हालांकि देवी-देवताओं को कहीं आने जाने के लिए वहन की जरूरत नहीं, लेकिन इससे यह समझे कि उक्त वाहनों का कितना महत्व है। 

प्रकृति की रक्षा हेतु:- अगर पशुओं को भगवान के साथ नहीं जोड़ा जाता तो शायद पशु के प्रति हिंसा का व्यवहार और ज्यादा होता। भारतीय मनीषियों ने प्रकृति और उसमें रहने वाले जीवों की रक्षा का एक संदेश दिया है। हर पशु किसी न किसी भगवान का प्रतिनिधि है, उनका वाहन है, इसलिए इनकी हिंसा नहीं करनी चाहिए।