Lok Shakti

Nationalism Always Empower People

चैंबर अध्यक्ष किशोर मंत्री ने की राज्यपाल से शिष

Default Featured Image

Ranchi: चैंबर अध्यक्ष किशोर मंत्री के नेतृत्व में फेडरेशन ऑफ झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के पदाधिकारियों ने राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन से राजभवन में शिष्टाचार मुलाकात की. मुलाकात के क्रम में प्रदेश की आर्थिक प्रगति में व्यापार व उद्योग जगत की भूमिका पर सकारात्मक चर्चा हुई. राज्यपाल ने राज्य में औद्योगिक विकास और नए निवेश स्थापित करने हेतु औद्योगिक नीति के बिंदुओं पर चर्चा की. टूरिज्म डेवलपमेंट, शिक्षा, स्वास्थ्य और लॉ एण्ड ऑर्डर के मुद्दे पर भी सकारात्मक वार्ता हुई. प्रतिनिधिमंडल ने राज्य में आधिकाधिक रोजगार सृजन हेतु विशेषकर लघु उद्योगों के उत्थान के लिए आवश्यक कदम उठाये जाने की बात भी रखी.

इसे पढ़ें-निर्माणाधीन पुल और बस स्टैंड का डीसी ने किया निरीक्षण, गुणवत्तापूर्ण कार्य करने का निर्देश 

राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने झारखंड में व्यापारिक व औद्योगिक परिवेश को और अधिक बेहतर बनाने के लिए चैंबर ऑफ कॉमर्स से निरंतर प्रयासरत रहने के लिए कहा. प्रतिनिधिमण्डल में चैंबर उपाध्यक्ष आदित्य मल्होत्रा, अमित शर्मा, महासचिव डॉ अभिषेक रामाधीन, सह सचिव रोहित पोद्दार, शैलेष अग्रवाल और कोषाध्यक्ष सुनिल केडिया शामिल थे.

होल्डिंग टैक्स कम करने और चिकित्सकों के सुरक्षा के फैसले का स्वागत

होल्डिंग टैक्स कम करने के प्रस्ताव के साथ ही चिकित्सकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए झारखंड मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट के प्रारूप की स्वीकृति के लिए चैंबर ऑफ कॉमर्स ने मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री के साथ ही समस्त कैबिनेट मंत्रिमण्डल को धन्यवाद दिया. चैंबर अध्यक्ष किशोर मंत्री ने कहा कि नगरपालिका संपत्ति कर संशोधित विधेयक की स्वीकृति दिये जाने से राज्यवासियों में प्रसन्नता का माहौल उत्पन्न हुआ है. हमें जानकर खुशी हुई कि कैबिनेट के निर्णयानुसार रांची में 20 प्रतिशत तक तथा कुछ शहरों में होल्डिंग टैक्स 30 प्रतिशत तक कम हो सकता है, जो स्वागतयोग्य निर्णय है. सरकार के इस निर्णय से अधिकाधिक संख्या में राज्यवासी (विशेषकर धर्मशाला, चैरिटी संस्थान जो समाज सेवा के कार्यों में संलग्न हैं) लाभान्वित होंगे.

इसे भी पढ़ें-निर्माणाधीन पुल और बस स्टैंड का डीसी ने किया निरीक्षण, गुणवत्तापूर्ण कार्य करने का निर्देश 

चैंबर महासचिव डॉ अभिषेक रामाधीन ने कहा कि राज्य में मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने के झारखंड चैंबर की वर्षों पुरानी मांग को कैबिनेट द्वारा स्वीकृति देने के लिए मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री का आभार. हमें पूर्ण विश्वास है कि जल्द ही सरकार द्वारा इस विधेयक को सदन में पारित कराकर इसे कानून का रूप दिया जाएगा.

[wpse_comments_template]

You may have missed