सीएम भूपेश बघेल ने गुरुवार काे कहा कि प्रदेश सरकार के मंत्रियों के बीच कोई कलह नहीं है सभी मंत्री एकजुट हैं

पूरी एकजुटता के साथ राज्य के विकास के लिए काम कर रहे हैं। जिन लोगों को ऐसी गलतफहमी है, वे दूर कर लें। मतभेद की खबरों को भाजपा की उड़ाई खबर कहते हुए कहा कि भाजपा नेताओं के पास अभी सरकार के खिलाफ कोई मुद्दा नहीं है, इसलिए इस तरह की बातों को तूल देते रहते हैं। सीएम का बयान ऐसे समय में आया, जब बीते दो दिनों से स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के ट्वीट और बयानों से भाजपा मंत्रियों में मतभेद के आरोप लगाने लगी थी। सिंहदेव भी खुद को जय और सीएम बघेल को वीरू बताकर किसी तरह के मतभेद को खारिज कर चुके थे। राजधानी में ऑक्सीजोन के उद्घाटन के बाद पत्रकारों से चर्चा में सीएम भूपेश ने कहा कि सभी मंत्री एकजुट हैं। सरकार के कामकाज को लेकर पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह द्वारा लगातार लगाए जा रहे आरोपों पर सीएम भूपेश ने कहा कि पार्टी ने उन्हें राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया है।
वे 15 साल मुख्यमंत्री रहे हैं, ताकि उनके अनुभव का लाभ राष्ट्रीय स्तर पर मिल सके। वे प्रदेश से ही बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। सीएम ने कहा कि उन्हें प्रदेश की बेहतरी के लिए सुझाव देना चाहिए। हम उनकी आलोचनाओं को भी सुझाव के तौर पर लेते हैं, लेकिन वे अनावश्यक व गलत बातों को तूल दे रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री के ट्वीट और मीडिया को दिए बयानों के बाद दो मंत्रियों को सरकार प्रवक्ता बनाने के मुद्दे पर जो कयास लगाए जा रहे थे, उस पर सीएम बघेल ने कहा कि वरिष्ठ मंत्रियों को इसलिए प्रवक्ता बनाया गया है ताकि वे सरकार के बड़े पॉलिसी मैटर को मीडिया के सामने रख सकें। पत्रकारों की मांग पर ही यह फैसला किया गया है।

हरदेव ने नहीं दिया था आवेदन 
धमतरी के युवक हरदेव सिन्हा द्वारा आत्महत्या की कोशिश किए जाने पर सीएम ने कहा कि हरदेव ने उनसे मिलने के लिए कोई आवेदन नहीं दिया था। यदि आवेदन दिया होता तो इसकी उन्हें जानकारी होती। सिन्हा को सभी सरकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा है। उसके पास राशन कार्ड के साथ मनरेगा का जॉब कार्ड भी है। घटना के बाद उन्होंने उनके परिजनों के बात की है। इस मामले की दंडाधिकारी जांच के आदेश भी दिए गए हैं।