पौधरोपण एवं साग-सब्जी की खेती वर्मी खाद से किया जा रहा

भैयाथान अंतर्गत आदर्ष गौठान ग्राम पंचायत सुन्दरपुर के खुषबु महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा अब तक 8077 किलो ग्राम खाद तैयार किया जा चुका है, जिसमें से वन प्रबंधन समिति द्वारा 4150 किलो ग्राम जिसकी राषि 41600 रूपये का वर्मी कम्पोस्ट खाद क्रय कर खाद का उपयोग वृक्षारोपण में किया जा रहा है, साथ ही ग्रामीण जन स्वयं के बाड़ी एवं सामुदायिक बाड़ी में वर्मी कम्पोस्ट खाद का उपयोग कर साग-सब्जी की खेती कर रहें है।
आपको बताते चले की सुन्दरपुर में परवल सब्जी की खेती बहुत ही अच्छे से होता है, जिससे किसानों की आय में वृद्धि हुई है साथ ही उत्पादित सब्जीयों को बाजार में ले जाना भी नहीं पड़ता क्योकि खरीदार सीधे खेतों से ही सब्जी को किसानो से क्रय कर ले जाते है। सिर्फ पर्वल के सब्जी से ही प्रति वर्ष किसान 70 हजार राषि प्राप्त कर चुके है। इसी प्रकार गौठान में खुषबु महिला स्वयं सहायता द्वारा बाड़ी विकास किया गया। जिसमें मिर्ची, आलू, गोभी, पपीता, टमाटर की खेती की गई थी, पूर्व में मिर्ची, आलू, गोभी, टमाटर से 16832 रूपये राषि का लाभ हुआ था।
वर्तमान में 20 जुलाई से गोधन्य न्याय योजना की शुरूआत हुई, जिसमें गौठानों में गोबर खरीदी किया जा रहा है, इससे किसानों में बहुत हर्ष खुषी की लहर आ गई है। सुन्दरपुर में आज दिनांक तक कुल 3491 किलो ग्राम गोबर खरीदी हुआ है,जिसमें वर्मी खाद बनाने की तैयारी स्वयं सहायता समूह द्वारा किया जा रहा है, इसी प्रकार भैयाथान के 17 गौठानों में वर्मी खाद एवं बाड़ी विकास का कार्य प्रगति पर है।