रोजाना 22 हजार लेंगे सैंपल अब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में होगी कोरोना जांच

कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए अब स्वास्थ्य विभाग प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी कोरोना जांच कराने जा रहा है। इसके लिए विभाग ने प्रतिदिन 22 हजार सैंपल कलेक्शन और जांच का लक्ष्य रखा है। स्वास्थ्य विभाग ने सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को परिपत्र जारी कर सैंपल कलेक्शन और जांच सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। विभाग ने जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में रैपिड एंटीजन किट से जांच के भी निर्देश दिए हैं। आरटीपीसीआर और ट्रू-नाट विधि से जांच के लिए सैंपल कलेक्शन के लिए प्रशिक्षित स्टॉफ नर्स, एएनएम, फॉर्मासिस्ट आदि की सहायता लेने कहा गया है। प्रदेश भर में प्रतिदिन आरटीपीसीआर जांच के लिए 5,405 और ट्रू-नाट विधि से जांच के लिए 3,520 सैंपल संकलित किए जाएंगे। वहीं रैपिड एंटीजन किट से रोज 13 हजार से अधिक सैंपलों की जांच की जाएगी। स्वास्थ्य विभाग ने जिला अस्पतालों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, शहरी व ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के लिए भी जिला स्तर पर प्रतिदिन रैपिड एंटीजन किट से जांच के लिए लक्ष्य निर्धारित किया है। विभाग ने रोजाना रायपुर के लिए 2,440, गरियाबंद के लिए 500, धमतरी, महासमुंद, कबीरधाम और बालोद के लिए 630-630, दुर्ग के लिए 1510, बेमेतरा के लिए 580, बलौदाबाजार-भाटापारा के लिए 670, रायगढ़ के लिए 1,280, कोरबा और जांजगीर-चांपा के लिए 970-970, जशपुर के लिए 500, बस्तर, कांकेर और कोंडागांव के लिए 605-605, दंतेवाड़ा के लिए 590, सुकमा के लिए 490, नारायणपुर के लिए 480, बीजापुर के लिए 410, सूरजपुर और बलरामपुर-रामानुजगंज के लिए 530-530, कोरिया के लिए 570, सरगुजा के लिए 940, मुंगेली के लिए 600, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के लिए 350, बिलासपुर के लिए 1,540 तथा राजनांदगांव के लिए 1,340 सैंपल कलेक्शन एवं जांच का लक्ष्य रखा है।