कोरोना वायरस महामारी की वजह से वैश्विक पर्यटन उद्योग पूरी तरह ध्वस्त हो गया है

कोरोना की वजह से वैश्विक पर्यटन को पांच माह में 320 अरब डॉलर का नुकसान संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने मंगलवार को कहा कि इस महामारी की वजह से पर्यटन उद्योग को इस साल के पहले पांच महीनों में 320 अरब डॉलर के निर्यात का नुकसान हुआ है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पर्यटन उद्योग में 12 करोड़ नौकरियां खतरे में हैं. गुतारेस ने वीडियो संबोधन में कहा कि पर्यटन वैश्विक अर्थव्यवस्था का ईंधन और रसायन के बाद तीसरा सबसे बड़ा निर्यात क्षेत्र है. 2019 में वैश्विक व्यापार में इसका हिस्सा सात प्रतिशत रहा था. 

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि पृथ्वी पर प्रत्येक 10 में से एक व्यक्ति को इस क्षेत्र में रोजगार मिला हुआ है. उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र सिर्फ अर्थव्यवस्थाओं को आगे बढ़ने में ही मदद नहीं करता, बल्कि इसके जरिये लोगों को दुनिया की संस्कृति को जानने तथा प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद उठाने का अवसर भी मिलता है. इसके जरिए लोगों को एक-दूसरे को जानने का मौका मिलता है. गुतारेस ने कहा कि 2020 के पहले पांच महीनों में महामारी की वजह से अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों की आवाजाही 50 प्रतिशत से भी अधिक घट गई है. क्षेत्र की आय बुरी तरह प्रभावित हुई है. 

गुतारेस ने कहा कि यह अमीर विकसित देशों के लिए एक ‘बड़ा झटका है, लेकिन विकासशील देशों लिए तो ‘आपात स्थिति है. इनमें कई छोटे द्वीपीय विकासशील देश और अफ्रीकी देश शामिल हैं. उन्होंने कहा कि कुछ देशों के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में पर्यटन क्षेत्र का हिस्सा 20 प्रतिशत से अधिक है.