जिले में अब  (गेंदा) रजनीगंधा और गुलाब की खेती शुरू हो गई।

गेंदा व गुलाब की खेती कर रहे हैं किसान, उत्पादन इतना कि 6 जिलों में सप्लाई सारंगढ़, धरमजयगढ़ और बरमकेला नवापाली के किसान कम लागत में फूलों की खेती कर डेढ़ गुना से ज्यादा मुनाफा कमा कर रहे हैं। फूलों की खेती करने वाले किसान रायगढ़ के अलावा, बिलासपुर, रायपुर, कोरबा, जशपुर, कुनकुरी, पत्थलगांव के अलावा क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों में फूलों की सप्लाई कर रहे हैं। जिले में सबसे अधिक फूलों की खेती धरमजयगढ़ और कापू में की जा रही है। बायसी कॉलोनी निवासी अखिल मधु ने अपने पौने तीन एकड़ खेत पर फूलों की खेती करते हैं। दो एकड़ में सिर्फ गेंदा और बाकी 75 डिसमिल में रजनीगंधा, गेडुलस स्टीक और गुलाब लगाए हैं। उन्होंने गेंदे की फसल के लिए दो एकड़ में 30 हजार रुपए खर्च किए। छह महीने बाद उन्होंने एक लाख रुपए से अधिक का गेंदा फूल कोरबा, रायगढ़ समेत छह मंडियों में सप्लाई की। 30 डिसमिल जमीन पर 2 हजार रुपए खर्च कर गेडलस स्टीक लगाई थी, जिससे एक सीजन में 10 से 12 हजार रुपए आय हुई। 20 डिसमिल में 8 हजार रुपए खर्च कर रजनीगंधा की खेती की थी, जिससे उन्हें 30 हजार रुपए कमाए हैं। वे गुलाब की भी खेती कर रहे हैं।