कोरोना पॉजिटिव के फोन पर अब मैसेज, इसमें होम आइसोलेशन की जानकारी

नई दिल्ली में कामयाबी के बाद होम आइसोलेशन यानी घर में इलाज की सुविधा को प्रदेश सरकार ने न सिर्फ अपनाया है, बल्कि इसे और सुविधाजनक बनाने के लिए प्रशासन ने कोशिश शुरू कर दी है। पहली कोशिश की तहत प्रशासन ने मंगलवार को एक वेबसाइट तैयार कर ली, जो पूरी तरह होम आइसोलेशन पर भी आधारित है। इसमें होम आइसोलेशन की अनुमति, जांच, दवा पहुंचाने के साथ किसी भी तरह की दिक्कत पर इमरजेंसी सेवा के नंबर दिए हैं। सभी मुद्दों पर चौबीसों घंटे की जवाबदेही के साथ बड़ी टीम तैनात कर दी गई है। इसी के तहत, अब राजधानी में कोई भी व्यक्ति पाजिटिव पाया जाएगा तो उसके मोबाइल पर कुछ देर में एक एसएमएस आएगा। , जिस पर क्लिक करते ही पूरी प्रक्रिया आपके सामने होगी। इस वेबसाइट को ओपन करने के बाद पंजीयन करते समय संबंधित व्यक्ति को अपना नाम, पता, परिवार के बाकी सदस्य, अन्य बीमारियां किसी को हों तो, मकान में कमरे, इलाज कराने वाले डॉक्टर के बारे में जानकारी ली जाएगी। पूरी जानकारी भरने के कुछ देर बाद ही संबंधित लोगों को मैसेज आएगा कि जानकारियों के आधार पर होम आइसोलेशन दिया जा रहा है या नहीं। किसी जरूरत पर कहां काॅल कर सकते हैं, वह नंबर भी दिए जाएंगे। सबसे बड़ी राहत यह है कि अब मरीज को होम आइसोलेशन की अनुमति के लिए फॉर्म लेकर डॉक्टर समेत कंट्रोल रूम में बैठे अधिकारियों व दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। अनुमति मिलते ही नगर निगम, हेल्थ व जिला प्रशासन की टीम, जिन्हें अलग-अलग काम का जिम्मा बांटा गया है। वे संबंधित के मकान के वेरिफिकेशन के साथ-साथ दवा देने तक का जिम्मा संभालेंगे और खुद ही संपर्क करेंगे। यही नहीं, होम आइसोलेशन के लिए कलेक्टर के भारतीदासन ने मंगलवार को इससे जुड़े हर काम के लिए अलग-अलग टीम बना दी है। इन राहत टीमों का लाभ मरीज को कैसे मिले, इसका सिस्टम भी तय कर दिया गया। होम आइसोलेशन की व्यवस्था व संचालन के लिए एडीएम विनित नंदनवार को नोडल अफसर बनाया गया है। इसके अलावा अलग-अलग काम व जोन के हिसाब से टीम बनाई गई है।