ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन का भारत में ट्रायल रुक सकता है

पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रोक सकता है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने बुधवार को नोटिस भेजकर उनसे ट्रायल पर जवाब मांगा था। दरअसल, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और लंदन की फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका कोरोना वैक्सीन बना रही हैं। इसका ट्रायल भारत समेत कई देशों में चल रहा है। दो दिन पहले एक व्यक्ति के बीमार होने की वजह ब्रिटेन में उन्होंने अपने ट्रायल को रोक दिया। यह व्यक्ति इस ट्रायल में शामिल था।

भारत में यह ट्रायल पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में चल रहा है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने इसी को लेकर जवाब-तलब किया है। हालांकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि यह ट्रायल रोक दिया गया है।

राज्य के अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत हो गई है। देवास, जबलपुर, ग्वालियर, शिवपुरी समेत कई जिलों में मंगलवार-बुधवार को यह दिक्कत आई है। देवास के अमलतास अस्पताल में कोरोना मरीज 7 घंटे तक ऑक्सीजन के लिए परेशान रहे। यह परेशानी इसलिए आई, क्योंकि छत्तीसगढ़, गुजरात और महाराष्ट्र ने सप्लाई रोक दी।

राज्य में अभी कोविड के एक्टिव केस 17 हजार 700 से ज्यादा हैं। इनमें से 20% मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत है। महाराष्ट्र से सप्लाई रोक दिए जाने के बाद एकाएक किल्लत बढ़ गई। अस्पतालों में जुलाई में हर दिन 40 टन तो अगस्त में 90 टन ऑक्सीजन लगी। उधर, इंदौर में लगातार केस बढ़ने के बाद व्यापारियों ने वीकेंड यानी शनिवार को 5 और रविवार को शाम 6 बजे दुकानें बंद करने का फैसला किया है।