Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

रायपुर : बैगा जनजाति के प्रतिभावान छात्र भरतलाल पढ़ेंगे दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय में

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने की त्वरित पहल
सुधादेवी ट्रस्ट से मिलेगी एक लाख रूपए की मदद

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से आज यहां उनके निवास कार्यालय में प्रदेश की विशेष पिछड़ी बैगा जनजाति के छात्र भरतलाल बैगा ने सौजन्य मुलाकात की। डॉ. सिंह ने इस बात पर खुशी जतायी कि अब बैगा जनजाति में भी शिक्षा के प्रति रूझान बढ़ा हैं। उन्होंने कहा- इसका एक बड़ा उदाहरण यह है कि कबीरधाम जिले के ग्राम मन्नाबेदी निवासी भरतलाल का चयन संयुक्त इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा (जेईई) के माध्यम से दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय के लिए हुआ है। भरतलाल वहां से सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनकर आएंगे और राज्य तथा देश की सेवा करेंगे। मुख्यमंत्री ने भरतलाल और उनके पिता श्री रामचंद्र बैगा और माता श्रीमती बैसाखिन को इसके लिए बधाई दी। लोक सभा सांसद श्री अभिषेक सिंह भी इस मौके पर मौजूद थे।
मुख्यमंत्री को भरतलाल और उनके माता-पिता से चर्चा के जब यह मालूम हुआ कि भरतलाल को 31 जुलाई को दिल्ली जाना है और दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय के प्रवेश शुल्क और छात्रावास शुल्क के लिए उन्हें लगभग एक लाख रूपए की जरूरत है और आर्थिक कठिनाई के कारण उनका परिवार इस राशि की व्यवस्था नही कर पा रहा है तो डॉ. रमन सिंह ने की तत्काल पहल करते हुए कवर्धा स्थित सुधादेवी ट्रस्ट के पदाधिकारियों को फोन किया और उनसे कहा कि भरतलाल के बैंक खाते में ट्रस्ट की ओर से एक लाख रूपए तुरंत जमा कर दे।
उल्लेखनीय है कि श्री भरत लाल बैगा ने बताया कि वे ग्राम कबीरधाम जिला मुख्यालय से लगभग 12 किलोमीटर दूर मन्नाबेदी गांव के रहने वाले हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा गांव में हुई है। कक्षा छठवीं से 12 वीं तक की पढ़ाई कवर्धा के करपात्री स्कूल में हुई। इसके बाद उन्होंने भिलाई में एक निजी कोचिंग इंस्टीट्यूट से जेईई परीक्षा की तैयारी की तथा दूसरे प्रयास में उनका चयन दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय में साफ्टवेयर इंजीनियरिंग के लिए हुआ है। जेईई मेंस 2018 में उनकी रैंकिंग 2572 आयी है। पहले प्रयास में उनका चयन अरूणाचल प्रदेश के एनआईटी में हुआ  था।