मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा रक्षा बंधन से पहले अपनी ‘बहनों’ के नाम लिखी चिट्ठी से बवाल मच गया है. इस मामले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सीएम शिवराज पर निशाना साधा है. तो वहीं बीजेपी ने साफ कर दिया है कि कांग्रेस ‘भाई-बहन के रिश्ते’ के बीच न आए तो ही अच्छा है.
दरअसल, रक्षाबंधन के मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी बहनों को चिट्ठी लिखी है. और डाक विभाग के जरिए करीब पांच लाख बहनों को ये चिट्ठी भेजी गई है. चिट्ठी का मजमून कुछ यूं है कि शिवराज आज जिस मुकाम पर पहुंचे हैं, उसके पीछे उनकी बहनों का ही आशीर्वाद है. सीएम ने चिट्ठी में ‘बहनों’ से पांच साल मांगते हुए उन्हें खुशहाल और सुरक्षा का वातावरण देने का वादा किया है.
इस मामले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने भी शिवराज पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि जो शिवराज सरकार पिछले 15 वर्षों में बहनों- भांजियों को प्रदेश में सुरक्षित माहौल नहीं दे पाई, प्रदेश को महिला अत्याचार में देश में शीर्ष पर ला खड़ा कर दिया, वो अब रक्षाबंधन जैसे पवित्र त्यौहार पर किस मुंह से बहनों से सुरक्षित व ख़ुशनुमा माहौल के लिए 5 वर्ष और मांग रहे हैं. वहीं रक्षाबंधन के मौके पर ‘भाई-बहन की चिट्ठी’ के बीच आई कांग्रेस पर बीजेपी ने पलटवार किया है. बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस इस रिश्ते में न आए तो ही बेहतर है. सीएम शिवराज ने अपनी बहनों के नाम चिट्ठी लिखी है.

Leave comment