Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Editorial :- केरल में मोहनलाल के बाद अब तमिलनाडू में रजनीकांत के हाथ में होगा कमल?

अंग्रेज़ी अखबार में छपी खबर के मुताबिक, मलयालम फिल्म इंडस्ट्री के सुपरस्टार मोहनलाल 2019 का लोकसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी के टिकट से लड़ सकते हैं.
बताया जा रहा है कि मोहनलाल को केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से चुनाव लड़ाया जा सकता है. खास बात ये है कि सोमवार को ही मोहनलाल ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी. ऐसे में मुलाकात के एक दिन बाद ही इस प्रकार की खबरें आना अटकलों को हवा देता है.
बीजेपी तिरुवनंतपुरम लोकसभा सीट से कांग्रेस के बहुचर्चित नेता शशि थरूर के खिलाफ उन्हें टिकट भी दे सकती है। माना जा रहा है कि आरएसएस का भी मोहनलाल को पूरा समर्थन है। इस मुलाकात को लोकसभा चुनाव से पहले केरल और दक्षिण भारत की राजनीति के लिए काफी अहम माना जा रहा है। विश्?लेषकों के मुताबिक मोहनलाल अगर बीजेपी में शामिल होते हैं तो राज्य में पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल काफी बढ़ जाएगा।
रिपब्लिक वल्र्ड में प्रकाशित आज के समाचार के अनुसार अभिनेता मोहनलाल के बाद तमिलनाडू सुपरस्टार रजनीकांत निकट भविष्य में  भाजपा के कमल को तमिलनाडू में खिला सकते हैं। तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ दिल्ली में कई बैठकें अभी हाल ही में की है। इससे इन अटकलों को बढ़ावा मिल रहा है कि सुपरस्टार रजनीकांत भारतीय जनता पार्टी से हाथ मिलाकर उनका कमल अपने हाथ में भी थाम सकते हैं।
सुत्रों का दावा है कि दिल्ली में रजनीकांत ने पिछले पांच दिनों में सात बैठकें भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ की थी।
जब से रजनीकांत के बारे में चर्चा चली थी कि वे राजनीति मेें प्रवेश करने वाले हैं और अनुमान यह लगाया जाते रहा है कि वे अपनी अलग राजनीतिक पार्टी शुरू करेंगे या मौजूदा भाजपा में शामिल होंगे।
३१ दिसंबर २०१७ कोथलाईवाÓ ने कहा कि  वह एक नई पार्टी बनाकर राज्य में २०२१ का विधानसभा चुनाव लडेंगे। लेकिन अब ऐसा लगता है कि वे भाजपा के साथ आगे बढ़ेंगे।
२०१४ के आम चुनावों में बीजेपी ने तमिलनाडू ने ३९ में से सिर्फ सीट जीती थी, जिसमें एआईएडीएमके ३७ सीटों पर विजय हासिल की थी।
अब चूंकि जयललिता के देहवसान के बाद वर्तमान में जो एआईएडीएमके का नेतृत्व है वह  भाजपा के साथ यदाकदा रहा है जैसे अविश्वास प्रस्ताव के समय भी उसने कांग्रेस का साथ नहीं दिया था।