Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

प्रदेश के विकास पर रमन सिंह को बहस की चुनौती देने वाले भूपेश घिरे

रायपुर. विकास के मुद्दे पर लाइव बहस कराने की पीसीसी चीफ भूपेश बघेल की चुनौती पर चौतरफा घिर गए हैं। उन पर पलटवार करते हुए अब उच्च शिक्षा मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय और नारीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने बहस के लिए राहुल गांधी को बुलाने की चुनौती दी है।
पांडे ने कहा कि विधानसभा में आप कई बार बहस कर चुके हैं। कई बार आपको मौका मिल चुका है। डॉ रमन सिंह जी से आपको अगर बहस करानी है तो सीधे राहुल गांधी जी को बुला लीजिए। समय और स्थान आप तय करें, हम मुख्यमंत्री जी को तैयार कर लेंगे।
भूपेश के चैलेंज पर नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने भी तीखा तंज कसा है। उन्होंने कहा कि पहले राहुल गांधी को बहस के लिए तैयार कीजिये, फिर मुख्यमंत्री जी को चैलेंज कीजिएगा। अपने जवाब में अमर ने कहा कि भूपेशजी आपकी राजनीति का स्तर किसी से छिपा नहीं है।
ऐसे में समान कद वालों से चर्चा हो तो सार्थक है। तो आपकी चुनौती में थोड़ा संशोधन है,पहले राहुल गांधी को तैयार कीजिए फिर मुख्यमंत्री जी को बहस की चुनौती दीजिएगा। चिंता मत करिए बहस का समय और जगह आपके हिसाब से तय होगा।
दूसरी तरफ, विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने भूपेश बघेल को खुली चुनौती देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री से खुली बहस करने से पहले वे मुझसे बहस कर लें। वे एक विधायक हैं और मैं भी एक विधायक हूं। वो मंच तैयार कर लें और तिथि बता दें। उस दिन उनके हर सवाल का जवाब मिल जाएगा।
उनके हर सवाल का जवाब देने को हम तैयार हैं। सुंदरानी ने कहा कि पिछले 15 सालों में जो विकास हुआ है, वह यदि पीसीसी चीफ को नहीं दिखता तो इसके लिए हम जिम्मेदार नहीं हैं। उनको अपने दृष्टि दोष की जांच करानी चाहिए। देश की आजादी के बाद से कांग्रेस यदि विकास को प्राथमिकता देती तो देश की स्थिति और मजबूत होती।
भूपेश बघेल को विकास खोजना नहीं पड़ता। वे भ्रम फैलाकर राजनीति करना चाहते हैं, जिसमें वे सफल नहीं होंगे। हर बार की तरह जनता इस बार भी कांग्रेस को नकार देगी।
कौशिक ने ट्वीटर पर दी बघेल को चुनौती : अध्यक्ष धरम लाल कौशिक ने भी हमला कर दिया है। मंत्रियों के बाद अब कौशिक ने बघेल पर हमला करते हुए ट्वीट किया है। साथ ही ट्वीट को राहुल गांधी से लेकर चरणदास महंत और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव को भी टैग किया है।
कौशिक ने कांग्रेस के सीएम कंडीडेट के सवाल को उछालते हुए एक तीर से कई निशाने लगाने की कोशिश की है। एक तरफ उन्होंने पीसीसी चीफ भूपेश बघेल को बधाई देते हुए तंज कसा है कि शायद शायद राहुल गांधी ने आपको सीएम कंडीडेट घोषित कर दिया है, जो सीधे मुख्यमंत्री को चुनौती देकर अप्रत्यक्ष रूप से घोषणा कर रहे हैं।
दूसरी तरफ, उन्होंने कांग्रेस के दूसरे नेताओं महंत और सिंहदेव से पूछने की नसीहत देते हुए लिखा है कि आपने इन दोनों नेताओं से भी पूछ ही लिया होगा, क्योंकि ये भी दिल में अरमान लिए बैठे हैं। साथ ही उन्होंने लिखा कि कोई जरा उइके को भी बता देना।