Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

राफेल डील: राहुल पर BJP का पलटवार, सबूत दिखाकर कहा- वाड्रा का जेल जाना तय

राफेल पर बीजेपी ने एक बार फिर राहुल गांधी पर पलटवार किया है. आज पत्रकारों को संबोधित करते हुए बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा जेल जाएंगे. उन्होंने आज दो सबूत दिखाए. पहला रॉबर्ट वाड्रा का लंदन स्थित 19 करोड़ के घर की तस्वीर और दूसरा वाड्रा का ज्यूरिख के लिए टिकट.
पात्रा ने कहा कि ऐसा कोई करप्शन नहीं जो कांग्रेस के दरवाजे जाकर ना रुके. कांग्रेस को कमीशन नहीं मिलने और राहुल के लाॉन्च नहीं होने के चलते राफेल पर विवाद किया जा रहा है.
वाड्रा और भंडारी ने बनाई ऑफसेट कंपनी
पात्रा ने आरोप लगाया कि वाड्रा ने अपने दोस्त संजय भंडारी के साथ मिलकर एक ऑफसेट कंपनी बनाई थी. संजय भंडारी और दासौ के साथ सांठ-गांठ नहीं होने के चलते राफेल डील यूपीए में नहीं हुई. मोदी सरकार आने के बाद संजय भंडारी पर कार्रवाई हो रही. रॉबर्ट वाड्रा पर शिकंजा कसता जा रहा है. वो बचेंगे नहीं.
जेल जाने पर दिया लालू का उदाहरण
पात्रा ने कहा कि वाड्रा एक दिन जरूर जेल जाएंगे. यह कोई राजनीतिक प्रतिशोध नहीं, बल्कि इस परिवार और वाड्रा द्वारा देश को लूटने के कारण होगा. एक न एक दिन उन्हें जेल जाना ही होगा. पात्रा ने लालू यादव का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने भी चारा घोटाला किया, इसके लिए उन्हें भले ही 20 साल के बाद लेकिन जेल जाना ही पड़ा.
मोदी सरकार के आने पर हुई कार्रवाई
इससे पहले पात्रा ने आरोप लगाया कि संजय भंडारी ने 2008 में एक लाख की पूंजी से ऑफसेट कंपनी बनाई और जो बाद में हजारों करोड़ की कंपनी बनी. मोदी के आने के बाद 2014 में दलाली करने वाली कंपनी पर कार्रवाई हुई. 2016 में भंडारी के घर, दफ्तर पर रेड हुई. रेड में रक्षा मंत्रालय के दस्तावेज, रक्षा सौदे के गोपनीय दस्तावेज उनके घर से मिले.
वाड्रा के लिए लंदन में 19 करोड़ का घर
पात्रा ने कहा कि राफेल के कागज भी राबर्ट वाड्रा के अभिन्न मित्र संजय भंडारी के घर से मिले. कई ईमेल भी मिले. लंदन में संजय भंडारी के रिश्तेदार सुमित चड्ढा द्वारा राबर्ट वाड्रा के लिए 19 करोड़ के घर की डिटेल्स है. संबित पात्रा ने दावा किया कि 2009 में ये घर खरीदा गया था.
स्विस कंपनी से डील के लिए शर्तें बदलीं
संबित पात्रा ने कहा कि आज देश को बेचने वाले और डाका डालने वाले लोग पीएम पर सवाल उठाते हैं. उन्होंने कहा कि 2012 में स्विस कंपनी पिलेट्स एयरक्राफ्ट की डील यूपीए में हुई थी. इसको टेंडर देने के लिए शर्तें बदली गईं, जबकि HAL भी इसके लिए प्रयास कर रहा था.
स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के अकाउंट में भेजा गया पैसा
HAL को दरकिनार कर स्विस कंपनी पिलेट्स को टेंडर दिया गया. एक मिलियन स्विस फ्रैंक (स्विस करंसी) संजय भंडारी को इसके लिए मिला. स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक में अकाउंट नंबर 52105058250 में पैसा दिया गया. पात्रा ने आरोप लगाया कि संजय भंडारी और उनके मार्फत वाड्रा के पास ये पैसा आया.
वाड्रा के लिए भेजा ज्यूरिख का टिकट
उन्होंने कहा कि संजय भंडारी ने वाड्रा के लिए ज्यूरिख का एयर टिकट मेल से भेजा था. जिस समय डील हो रही थी, उस समय वाड्रा स्विट्जरलैंड जा रहे थे. पात्रा ने सवाल किया कि राहुल गांधी जवाब दें कि उनका दामाद क्या कर रहा था?
इसलिए यूपीए के वक्त नहीं हुई डील
पात्रा ने दावा किया कि संजय भंडारी की कंपनी OIS ने राफाउट के साथ साझेदारी कर दासौ के साथ राफेल डील की कोशिश की. दासौ ने OIS की पड़ताल कर डील से मना कर दिया, इसलिए यूपीए के समय ये डील नहीं हुई.