मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने कहा है कि भाजपा और जोगी कांग्रेस के गठबंधन का प्रदेश की लगभग 26 सीटों पर थोड़ा-बहुत असर पड़ सकता है। यह भाजपा और कांग्रेस, दोनों पर पड़ेगा। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि यह गठबंधन डाॅ. रमन के दबाव में हुआ है। इस पर मुख्यमंत्री ने दो टूक कहा- मेरी इतनी ताकत नहीं कि इन दोनों को एक करवा सकूं, क्योंकि दोनों ही सक्षम हैं। वे मानते हैं कि मोदी सरकार की आयुष्मान योजना गेमचेंजर हो सकती है। प्रस्तुत है भास्कर टीम से उनकी बातचीत-
भास्कर: जोगी और बसपा का गठबंठन प्रदेश और खासकर भाजपा पर कितना असर करेगा?   सीएम: प्रदेश में एससी प्रभाव वाली 26 सीटें हैं। इन पर गठबंधन का असर नजर आएगा। असर तो भाजपा और कांग्रेस, दोनों पर पड़ सकता है। 10 एससी सीटों में से 9 भाजपा के पास हैं।
भास्कर: यह गठबंधन अब गोंडवाना पार्टी को भी मिलाने की कोशिश में है।  तब?
सीएम: गोंगपा के भी असर वाले कुछ इलाके हैं, जहां उनके 9 से 23 हजार तक वोट हैं। हालांकि कोई बड़ा असर दिखा पाएंगे, ऐसा नहीं लगता।
भास्कर: कांग्रेस का आरोप है कि आपके दबाव की वजह से ही यह गठबंधन हुआ?
सीएम: मेरी इतनी ताकत नहीं है कि दोनों को एक कर सकूं। मायावती से मेरा कोई कांटेक्ट नहीं है। दोनों खुद सक्षम हैं।
भास्कर: जोगी क्या इस बार भी भाजपा के लिए अच्छा फैक्टर होंगे?
सीएम: मेरे लिए तो मेरी सरकार के काम बड़े फैक्टर हैं, वही वोट दिलवाएंगे। चावल, नमक, चना अब तो हमेशा का बड़ा काम हो गया है। मोदी जी बिलकुल सही समय पर आयुष्मान भारत योजना ले आए हैं। हमने पहले खाद्य सुरक्षा दी, अब
स्वास्थ्य सुरक्षा दे रहे हैं। यह दोनों ही माइलस्टोन हैं। कुछ छोटे कदम भी हैं, जिनका अलग-अलग इलाकों पर असर दिखेगा।
भास्कर: टिकट वितरण को लेकर भाजपा में इस बार इतनी चुप्पी क्यों?
सीएम: भाजपा शोर मचाकर टिकट नहीं बांटती। प्रत्याशी चयन के लिए सौदान सिंह प्रदेश में निकल चुके हैं। पार्टी ने मुझे और सारे लोगों को इतने काम दे दिए हैं कि किसी के पास रायपुर आने का समय नहीं है। टिकट वितरण में राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत बड़े नेता लगे हैं।
भास्कर: कितने मंत्री-विधायकों का परफाॅर्मेंस पार्टी के नजरिये से संतोषजनक नहीं है?
सीएम: नॉन-परफार्मर विधायकों की चर्चा तो होती है। इन्हीं में मंत्री और संसदीय सचिव शामिल हैं। किसे टिकट मिलेगी और किसे नहीं, यह बाद में पता चलेगा। लेकिन चेहरे बदलते रहते हैं।
भास्कर: बिलासपुर में हुए लाठीचार्ज का चुनाव में क्या असर पड़ेगा?
सीएम: कांग्रेसियों ने कचरा डालकर और पुलिस ने लाठी चलाकर अतिउत्साह दिखाया। इसे लेकर जो राजनीति होनी थी, हो गई। हमने कार्रवाई भी कर दी। इसलिए अब राजनीति पर इसका असर नहीं पड़ेगा।
भास्कर: बस्तर में 2008 में भाजपा ने तगड़ा प्रदर्शन किया। 2013 में ऐसा क्या हुआ कि पीछे रह गए?
सीएम: झीरम मामले का पिछले चुनाव के अंतिम 15 दिनों में असर नजर आया था। बस्तर में भाजपा 12 में से 4 सीटें ही जीत पाई। इसमें मेन फैक्टर वही था। इस बार ऐसा कोई विषय नहीं है। विकास ही बड़ा मुद्दा है।
भास्कर: आपके दूसरे और तीसरे चुनाव में चावल का असर था। इस बार गेमचेंजर क्या रहेगा?
सीएम: आयुष्मान भारत और उज्ज्वला योजनाएं प्रभावी हैं। आयुष्मान से प्रदेश के 40 लाख परिवारों को बड़ी सुविधा मिलेगी। धान बोनस से किसानों में संतोष है। चावल का असर तो अभी भी है।

Leave comment