Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

किल्लत ने बारदाना को बनाया मूल्यवान, सरगुजा में पहली बार 30 रुपये के पार

समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के लिए बारदाने की कमी से दिक्कत बढ़ गई है। यह पहला अवसर है जब बारदाना न सिर्फ मूल्यवान हो गया है बल्कि इसके दाम ने नया रिकर्ड बना दिया है।

धान खरीदी से पहले तक 12 से 13 रुपए प्रति नग की दर से बारदाना की बिक्री की जाती थी। आज की स्थिति में कटे-फटे, पुराने और सिले हुए बारदाना 31 से 32 रुपए प्रति नग की दर से बिक रहा है। किसानों को छूट दी गई है कि वे खुद के बारदाना से धान बेच सकते है। खुद के जूट के बारदाना से धान बिक्री पर तत्काल 7.32 रुपए का भुगतान किए जाने का प्रावधान किया गया है।

बारदाना वापस नहीं होने की स्थिति में शेष 7.68 रुपए का भुगतान किया जाएगा। किसानों के अलावा पीडीएस दुकान संचालक बारदाना की मांग कर रहे है। पीडीएस दुकान संचालकों पर पुराने बारदाना जमा करने के दबाब की वजह से बारदानों की मांग अचानक बढ़ गई है।

पुराने बारदाने पड़ोसी प्रान्तों से व्यवसायी मंगा कर बिक्री कर रहे है। सरगुजा जिले में धान खरीदी आरंभ होने से पहले तक बारदाना की पूछ परख नहीं होती थी लेकिन अब इसकी मांग बढ़ गई है। अंबिकापुर शहर में बारदाना के तीन-चार व्यवसायी ही है इनके पास बारदाना खरीदने गिनती के लोग पहुंचते थे लेकिन आज इन्हें बारदाना उपलब्ध कराने का आर्डर मिल रहा है।