Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

मकर संक्रांति को सूर्यदेव अपने पुत्र शनि से मिलते हैं,शुभ कार्य शुरू होते हैं दान स्नान से बढ़ जाते है पुण्य कई गुना

आज मकर संक्रांति है। सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो उस दिन को मकर संक्रांति कहते हैं।धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन पवित्र नदी में स्नान, दान, पूजा आदि करने से व्यक्ति का पुण्य प्रभाव हजार गुना बढ़ जाता है। इस दिन से मलमास खत्म होने के साथ शुभ माह प्रारंभ हो जाता है। इस खास दिन को सुख और समृद्धि का दिन माना जाता है। मान्यता है कि इस दिन सूर्य देवता और उनके पुत्र शनि देवता का मिलन भी होता है। इस दिन सूर्य को जल अवश्य अर्पित करना चाहिए। पतंग उड़ाने की प्रथा भी इसी लिए बनाई गई ताकि खेल के बहाने, सूर्य की किरणों को शरीर में अधिक ग्रहण किया जा सके। मकर संक्रांति में तिल के दान का खास महत्व होता है। इस दिन ब्राह्माणों को तिल से बनी चीजों का दान करना पुण्यकारी माना जाता है।