राजस्थान विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार कौन बाहरी है और कौन राजस्थानी है, इसे लेकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है.

वसुंधरा राजे ने जयपुर में आयोजित दिपावली मिलन समारोह में सचिन पायलट पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘मेरी डोली राजस्थान आई थी और अब अर्थी यहां से जाएगी, लेकिन मेरे ऊपर सवाल उठाने वाले यह बताएं कि उनका पीहर कहां है और उनका ससुराल कहां है.’

असल में, बीजेपी नेताओं ने सवाल उठाया था कि सचिन पायलट उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से आकर राजस्थान का सीएम बनना चाहते हैं. इस पर सचिन पायलट ने पलटवार करते हुए कहा था, ‘ढाई साल की उम्र में 1969 में जब मेरा रिश्ता राजस्थान से बंधा था, तब बीजेपी पार्टी बनी भी नहीं थी और वसुंधरा राजे तो 22-23 साल की उम्र में राजस्थान आई होंगी. तब से मेरा राजस्थान की मिट्टी से रिश्ता है, जब मैं ढाई साल का था.’

इस पलटवार करते हुए वसुंधरा राजे ने कहा, ‘मेरी डोली राजस्थान में आई थी, अब यहां से मेरी अर्थी ही जाएगी. आख़री सांस तक मैं यहां के लोगों की सेवा करती रहूंगी. मगर मुझ से पूछने वाले बताएं कि उनका पीहर कहां है और उनका सुसराल कहां है.

मुख्यमंत्री बीजेपी के दिपावली मंगल मिलन कार्यक्रम में बोल रही थीं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस भ्रम फैला रही है. बीजेपी कांग्रेस का यह भ्रम तोड़ेगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका बूथ महासंपर्क अभियान सफल रहा है. कार्यकर्ताओं में उत्साह, उमंग और जोश है. उन्होंने दावे के साथ कहा कि इस बार फिर बीजेपी ही सरकार बनाएगी.

बता दें कि वसुंधरा राजे अपने चुनाव क्षेत्र झालरापाटन के 3 दिन के दौरे के बाद रविवार को जयपुर लौटी थीं और सोमवार सुबह फीडबैक लेने के लिए विधानसभा क्षेत्रों में भेजे गए कोर कमेटी के टीम के साथ मीटिंग करेंगी.

Leave comment