November 13, 2018

अनंत कुमार जी कुछ समय से कैंसर से पीडि़त थे। 12 नवम्बर 2018 को रात 2 बजे अचानक उनकी स्थिति बिगड़ी और उन्हें बचाया नहीं जा सका।

जगन्नाथ राव जोशी संघ के प्रचारक बनकर कर्नाटक गये थे। वहॉ संघ का प्रभाव बढ़ाने मेें उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रही है। इसी कारण उन्हें कर्नाटक केसरी भी कहा जाते रहा है।

कर्नाटक में संघ के प्रभाव में जो प्रमुख विभूतियां आई उनमें प्रमुख हैं शेषाद्री जी।

शेषाद्री जी ने सन् 1946 में वतौर एक प्रचारक के संघ का कार्य कर्नाटक से प्रारम्भ किया। संघ कार्य विस्तार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए वे सन् 1987 में इसके सरकार्यवाह बने। उन्हें उनकी कृति तोरबेरालू पर कर्नाटक राज्य साहित्य अकादमी से सन् 1982 में सम्मानित किया गया। वे राजनीति में नहीं आये।  

श्री अनंत कुमार कर्नाटक में संघ के स्वयं सेवक रहते हुए विद्यार्थी परिषद में जुड़े और बाद में  वे राजनीति में आये। अटल जी के समय वे केन्द्रीय मंत्री मंडल में सबसे कम उम्र के मंत्री बने।

इसके उपरांत अभी वे नरेन्द्र मोदी जी के मंत्रीमंडल में शामिल थे। वह केन्द्र सरकार में दोदो मंत्रालयों की अहम जिम्मेदारी सम्हाल रहे थे।

कर्नाटक में संघ के प्रभाव से राजनीति में आये  हुए ही हैं श्री राम माधव। वे अभी भाजपा के महासचिव हैं।

कर्नाटक के पूर्व सीएम यदुयेरप्पा जी भी संघ के स्वयं सेवक रहते हुए ही राजनीति में आए।

अनंत कुमार के करीबी दोस्तों में शामिल बीजेपी राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर ने उनके साथ स्मृतियों को ताजा कर उन्हें याद किया है। राजीव चंद्रशेखर का भावुक लेख अनंत कुमार की गैरराजनीतिक शख्सियत की बारीक परत को समझने के लिए काफी जरूरी है। चंद्रशेखर को कर्नाटक की राजनीति में स्थापित करने में अनंत कुमार का बड़ा योगदान रहा है।

राजीव चंद्रशेखर ने अपने दोस्त अनंत कुमार को श्रद्धांजलि भरे लेख में कहा है कि स्कूटर चलाते, झोला टांगे मेरे दफ्तर पहुंच जाया करते थे अनंत, मोबाइल पर भेजते थे ढेर सारे जोक्स।

अनंत यात्रा पर चल चुके अनंत कुमार जी को राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के अलावा कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी श्रद्धांजली दी है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, वित्तमंत्री अरूण जेटली, यूपी सीएम आदित्यनाथ,बिहार सीएम नीतिश कुमार, रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण, एचआरडी मिनिस्टर प्रकाश जावड़ेकर आदि सभी ने उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की है।

Leave comment