दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में तैनात एएसआई जितेंद्र सिंह मंगलवार सुबह कैंट इलाके में गाड़ियों की चेकिंग कर रहे थे. तभी तेज रफ्तार से जा रही टाटा 407 के ड्राइवर ने उन्हें टक्कर मार दी और उन्हें घसीटते हुए 100 मीटर तक ले गया. इस घटना में सब इंस्पेक्टर जितेंद्र सिंह की मौके पर ही मौत हो गई.

दिल्ली पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी अशफाक को तुरंत गिरफ्तार कर लिया. अशफाक मेवात इलाके का रहने वाला है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक जितेंद्र सिंह दिल्ली कैंट इलाके में अपने साथियों के साथ मंगलवार सुबह वाहन चेकिंग कर रहे थे. तभी लगभग 7:55 बजे दिल्ली से गुरुग्राम की तरफ जा रहे एक टाटा 407 ट्रक को उन्होंने रुकने का इशारा किया, लेकिन बजाय रुकने के ड्राइवर ने जितेंद्र सिंह को टक्कर मार दी और उन्हें 100 मीटर तक घसीटता रहा.

घटना के बाद ट्रक ड्राइवर ने भागने की कोशिश की लेकिन उसे आगे जाकर पुलिस ने घेर कर पकड़ लिया. ड्राइवर का कहना है कि वह दिल्ली से गुरुग्राम सामान लोड करने जा रहा था. मृतक जितेंद्र के परिवार में पत्नी, 1 बेटा और 2 बेटियां हैं. ड्यूटी के दौरान पुलिसकर्मी की मौत से पुलिस डिपार्टमेंट में शोक है.

दिल्ली पुलिस का बीट ऑफिसर सस्पेंड

इधर पूर्वी दिल्ली में दिल्ली पुलिस ने अपने एक बीट ऑफिसर को सस्पेंड कर दिया है. आरोपी ऑफिसर बलबीर यादव पर 60 साल के बुजुर्ग राम प्रसाद की बेरहमी से पिटाई करने का आरोप है. पुलिस के मुताबिक घटना मयूर विहार के यमुना खादर की है.

7 तारीख को दीवाली के दिन सुबह 11 बजे कुछ लोग पार्क के अंदर जुआ खेल रहे थे, तभी बीट अफसर मौके पर जुआरियों को पकड़ने के लिए पहुंचे, लेकिन पुलिस को आता देख सभी जुआरी वहां से फरार हो गये. उसी वक्त राम प्रसाद वहां से गुजर रहे थे. राम प्रसाद के परिजनों का कहना है कि बीट ऑफिसर बलबीर यादव उनसे जुआरियों का नाम पता पूछने लगा.

बुजुर्ग राम प्रसाद ने कहा कि उन्हें उनकी कोई जानकारी नहीं है. आरोप है कि जवाब ना मिलने से गुस्साये पुलिस ने बुजुर्ग की डंडों और बेल्ट से पिटाई कर दी. राम प्रसाद के परिवार वालों ने इस मामले की शिकायत पुलिस उपायुक्त कार्यालय में की. इस मामले में डीसीपी पंकज ने तुरंत कार्रवाई की और बीट ऑफिसर बलबीर को सस्पेंड कर दिया और मामले की जांच के आदेश दे दिए.

 

Leave comment