म्यांमार से भागकर बांग्लादेश में शरण लेने वाले रोहिंग्याओं की आज घर वापिसी होगी. बांग्लादेश सरकार आज 2,260 लोगों में से 150 रोहिंग्याओं को उनके घर वापिस भेजेगी. रोहिंग्याओं की घर वापिसी पर भारत सरकार भी नजर बनाए हुए है. दरअसल भारत इस बात का ध्यान रख रही है कि रोहिंग्या कहीं भारत का रुख न कर लें क्योंकि भारत में पहले ही करीब 40,000 रोहिंग्या शरणार्थी बसे हुए हैं. भारत इन्हें अवैध घुसपैठिया मानता है और आए दिन  इनको वापिस भेजने की मांग भी समय-समय पर उठती रही है.

हाल ही में भारत ने भी 7  रोहिंग्याओं को वापिस भेजा था. वहीं पिछले दिनों खबर आई थी कि कुछ रोहिंग्या लद्दाख में आकर बस गए हैं जोकि भारत सरकार के लिए एक बड़ी चिंता का कारण है. उल्लेखनीय है कि साल 2017, अगस्त में सेना के हमले के बाद 7.2 लाख रोहिंग्याओं ने भारत और बांग्लादेश जैसे देशों से शरण मांगी थी. दोनों ही देशों में  रोहिंग्याओं की संख्या काफी बढ़ गई है. बांग्लादेश ने पिछले दिनों 24,342 रोहिंग्या रिफ्यूजियों की लिस्ट म्यांमार को सौंपी थी. इस पर म्यांमार ने सिर्फ 5,000 शरणार्थियों के वेरिफिकेशन की बात कही थी. वहीं बांग्लादेश ने यह भी स्पष्ट किया है कि जो रोहिंग्या वापिस जाना चाहते हैं उन्हें ही भेजा जाएगा.

Leave comment