अमृतसर में निरंकारी भवन में हुए आतंकी हमले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार युवक पंजाब का स्थानीय निवासी ही है. उसने पाकिस्तान में बैठे आतंकियों की मदद से इस हमले को अंजाम दिया था.

इस मामले में पहली गिरफ्तारी के बाद शाम चार बजे पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम है बिक्रमजीत सिंह. वह  धालीवाल गांव का रहने वाला है. दूसरा आरोपी अवतार सिंह है, जिसे जल्द गिरफ्तार किया जाएगा. अमरिंदर ने कहा कि आतंकी अब कश्मीर से पंजाब की ओर रुख कर रहे हैं. हम इसे रोकेंगे.

अमरिंदर ने कहा कि हमले में इस्तेमाल मोटर साइकिल भी बरामद कर ली गई है. ये एक सीधा आतंकी हमला था. धर्म से इसका कोई लेना देना नहीं था. मैं पंजाब को विश्वास दिलाता हूं कि पाकिस्तान और आईएसआई को मुंहतोड़ जवाब देंगे. इस हमले के पीछे खालिस्तानी लिबरेशन फोर्स का हाथ है.

हैंडग्रेनेड हमले के पीछे खालिस्तानी आतंकी हरमीत सिंह हैप्पी उर्फ पीएचडी की साजिश का खुलासा हुआ है. पाकिस्तान में छिपकर बैठे हरमीत सिंह हैप्पी उर्फ पीएचडी ने लोकल लड़कों की मदद से ये ग्रेनेड अटैक करवाया था.

आजतक ने पहले ही किया था खुलासा

पंजाब पुलिस ने एक लोकल युवक को हिरासत में लिया है, जिसने निरंकारी समागम स्थल पर हैंड ग्रेनेड फेकने की बात कबूली है. हैंड ग्रेनेड अटैक के लिए पैसा और ग्रेनेड पाकिस्तान में बैठे खालिस्तानी आतंकी हरमीत सिंह उर्फ पीएचडी ने मुहैया करवाया था.

पटियाला से कुछ दिन पहले पकड़े गए खालिस्तान गदर फोर्स के आतंकी शबनम दीप सिंह ने इसके लिए स्लीपर सेल के माध्यम से इन दो लड़कों को बरगला कर अपने साथ जोड़ा था. शबनम दीप सिंह ने गरीब लड़कों को खालिस्तान के नाम पर बरगला कर उनको चंद हजार रुपए देकर हैंड ग्रेनेड फेंकने के लिए तैयार किया था. उन्हें ट्रेनिंग भी दी गई थी.

Leave comment