24 November 2018

दिल्ली की विधानसभा चुनाव में प्रथम बार आप पार्टी की विजय के उपरांत पत्रकारों द्वारा दिये गये साक्षात्कार में राहुल गांधी ने कहा था कि वे प्रयास करेंगे की भविष्य में आप पार्टी की चालचरित्र का अनुकरण करते हुए कांग्रेस को भी जीत की ओर ले जाये।

इसके बाद लगातार राहुल गांधी बहुरूपीये तो बने ही हैं परंतु निराधार ऊलजलुल इल्जाम उसी प्रकार से लगाते जा रहे हैं जिस प्रकार से एनार्किस्ट केजरीवाल लगाते रहे हैं।

फिरोज खान के पौत्र राहुल गांधी के नाना मैंनो इटली के मुसोलिनी की पार्टी में शामिल थे। मुसोलिनी हिटलर का समर्थक था। मैनो इसी कारण कुछ वर्षों के लिये रूस की जेल मेंं भी बंद रहे हैं। राहुल गांधी अपनी नानी से मिलने के बहाने  छुट्टियां बिताने प्राय: इटली जाते हैं।  हिटलर के प्रचारमंत्री गोएबल्स की आत्मा का प्रवेश संभवत:  राहुल गांधी में हो चुका है।

कल ही स्मृति इरानी जी ने मध्यप्रदेश में कहा था कि झूठ का पिटारा लिये घूम रहे हैं कांग्रेस के युवराज।

राजू दास फ्री लांस पत्रकार ने ओपीइण्डिया साईट के माध्यम से गोएबल्स के क्लोन राहुल गांधी की कांग्रेस द्वारा इकॉनामीक टाईम्स और उसी प्रकार से अन्य समाचार पत्रों के माध्यम से एक फेक न्यूज आज २३ नवंबर को प्रसारित हो रही है :  टीवी पर सबसे ज्यादा विज्ञापन देने वाली पार्टी बनी भाजपा, नामचीन कंपनियों को पछाड़ा।

२३ नवंबर को इकॉनामीक टाईम्स ने एक झूठी कहानी अर्थात फेक न्यूज प्रसारित की है  जिसमें दावा किया है कि ब्रॉडकास्ट कि  ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बीएआरसी) के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) 16 नवंबर को समाप्त हुए सप्ताह में भारतीय टेलीविजन पर नंबर एक विज्ञापनदाता बन गई है।

कहानी में उल्लेख किया गया है कि बीजेपी हिन्दुस्तान युनीलिवर बीजेपी हिंदुस्तान यूनिलीवर, रेकिट बेनकीसर, अमेज़ॅन और अन्य जैसे अन्य विज्ञापनदाताओं से भी आगे है। कहानी में उल्लेख किया गया है कि बीजेपी पिछले हफ्ते में नंबर दो से ऊपर सभी चैनलों में नंबर एक विज्ञापनदाता के रूप में स्थान पर है।

इकॉनामिक्स की इस झूठी फेक न्यूज को अन्य  समाचार पत्रों मीडिया हाऊस ने अनुकरण किया और यही फेक न्यूज विपक्षी दलों विशेषकर कांग्रेस  के अभिषेक मनु सिंघवी जैसे नेताओं द्वारा वायरल की जा रही है।

कुछ रिपोर्टों के मुताबिक कांग्रेस पार्टी इससे भी आगे बढ़ते हुए मांग कि की चुनाव आयोग द्वारा बीजेपी के शीर्ष विज्ञापनदाता बनने की जांच की जाये।

दावा है कि बीजेपी ने एचयूएल जैसे पारंपरिक विज्ञापनदाताओं को पार कर लिया है, यह एक आश्चर्यजनक खबर थी, इसलिए हमने (राजू दास  पत्रकार) समाचार के स्रोत की जांच करने का फैसला किया। साप्ताहिक टेलीविजन विज्ञापन और दर्शक डेटा बीएआरसी वेबसाइट पर अपलोड किए जाते हैं, इसलिए हम रिपोर्ट को सत्यापित करने के लिए वहां जाते थे। जब हमने 16 नवंबर को समाप्त हुए सप्ताह के लिए शीर्ष 10 विज्ञापनदाताओं को देखने के लिए चुना, तो हमें निम्नलिखित तालिका प्रस्तुत की गई।  

लेकिन इकोनॉमिक टाइम्स जैसे मीडिया हाउस ने इतनी निराधार खबर क्यों प्रकाशित की? बीएआरसी वेबसाइट पर, टेलीविजन, शीर्ष 10 ब्रांडों पर विज्ञापन के लिए एक और श्रेणी है। और उस सूची में, बीजेपी उसी सप्ताह के लिए शीर्ष स्थान पर कब्जा कर रही है, इसके बाद नेटफ्लिक्स और ट्रिवागो। इसलिए, बीजेपी सप्ताह के लिए टीवी पर शीर्ष विज्ञापित ब्रांड है, लेकिन यह शीर्ष विज्ञापनदाता नहीं था क्योंकि मीडिया रिपोर्ट का दावा है।

यदि एचयूएल जैसी कंपनियां शीर्ष विज्ञापनदाता सूची में हैं, तो वे शीर्ष ब्रांड सूची में क्यों शामिल नहीं हैं, आप पूछ सकते हैं। जवाब सरल है, एचएमएल, आईटीसी आदि जैसे एफएमसीजी बीमियोथों में दर्जनों उत्पाद हैं जिनके लिए वे टीवी पर विज्ञापन करते हैं। इसका मतलब है, हालांकि वे विज्ञापनों पर उच्चतम राशि खर्च करते हैं, लेकिन यह राशि विभिन्न ब्रांडों के बीच विभाजित होती है। उस साधारण कारण के लिए, बीजेपी शीर्ष विज्ञापित ब्रांड के रूप में उभरा है क्योंकि पार्टी के विज्ञापन उपभोक्ता सामान कंपनियों जैसे कई ब्रांडों में विभाजित नहीं हैं। यही कारण है कि नेटफ्लिक्स और ट्रिवागो सूची में हैं क्योंकि इन कंपनियों के पास अपने विज्ञापन को विभाजित करने के लिए कई ब्रांड नहीं हैं।

एक शीर्ष विज्ञापनदाता और शीर्ष विज्ञापित ब्रांड बनने के बीच एक मौलिक अंतर है। और एक दूसरे के रूप में दावा करने के लिए निश्चित रूप से एक नकली खबर फेक न्यूज है जो कांग्रेस द्वारा फैलाई जा रही है।

बीएआरसी डेटा सार्वजनिक रूप से ऑनलाइन उपलब्ध है, फिर भी मीडिया घरों ने इस नकली खबर को कैसे और क्यों फैलाया, यह एक बड़ा सवाल है। एक मीडिया हाउस ने गलती की हो सकती है, लेकिन ऐसा नहीं माना जा सकता है कि कहानी को कवर करने वाले अन्य मीडिया घरों ने भी एक बार स्रोत वेबसाइट की जांच नहीं की थी। चुनाव से पहले बीजेपी के बारे में गलत जानकारी फैलाने के लिए यह एक जानबूझकर प्रयास होना चाहिए।इस मुद्दे पर, कांग्रेस शायद सही है, चुनाव आयोग को इस नकली खबर की जड़ जानने के लिए मामले में पूछताछ करनी चाहिए।

Leave comment