विधानसभा निर्वाचन-2018 के अंतर्गत मतगणना के लिए नियुक्त अधिकारियों को बी.आई.टी. कालेज में प्रशिक्षण दिया गया। मतगणना के लिए विधानसभावार अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। प्रत्येक टेबल में एक सुपरवाईजर एवं एक गणना सहायकों की सहयोग से मतों की गिनती की जाएगी। मतों की गणना के दौरान किए जाने वाले दायित्वों एवं इस दौरान आने वाली समस्याओं के समाधान के संबंध में विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया। निर्वाचन कार्य में अंतिम रूप से मतगणना का कार्य महत्वपूर्ण होता है। इसके लिए बेहद सावधानी और सतर्कता के साथ-साथ निष्पक्षता की आवश्यकता होती है। इस संबंध में अधिकारियों को मतगणना के दौरान बरती जाने वाली आवश्यक बातों पर विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में शामिल अधिकारियों को जिला निर्वाचन अधिकारी श्री उमेश अग्रवाल ने मतों की गणना के दौरान सावधानीपूर्वक सतर्कता के साथ कार्य करने के निर्देश दिए।
प्रशिक्षण में बताया गया कि मतगणना टेबल पर रनर के द्वारा जो भी कंट्रोल यूनिट मशीने लायी जाए, उसकी सीलिंग का परीक्षण व जांच करें। मशीन की नंबर की जांच कर संतुष्ट होने पर आगे की कार्यवाही करें। अभिकर्ताओं के मतगणना एजेंटों की संतुष्ट होने पर ही सभी कार्यवाही किया जाए। एड्रेस टैगे को कांटने से लेकर उम्मीदवार, मतों की संख्या का कार्य, अभिकर्ताओं के गणना एजेंटोें की मौजूदगी में किया जाएगा।

Leave comment