20 December 2018

कथन सत्य है कि नारों से नहीं, बल्कि ठोस नीति से गरीबी उन्मूलन किया जा सकता है और लोगों की आकांक्षाओं को पूरा किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि स्लोगन या नारे कुछ समय तक याद रहते हैं, लोग जल्द जान जाते हैं कि उनको लागू नहीं किया जा सकता. नीति आयोग द्वारा तैयारनव भारत की रणनीति-75 को जारी करने के बाद जेटली ने कहा कि इस बात पर बहस हो सकती है कि नारे अधिक काम करते हैं या ठोस नीति।

कर्जमाफी के नाम पर प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने चुनावों के बाद किसानों को जो मीठा लॉलीपॉप दिया है, वह मीठा नहीं बल्कि इतना जहरीला साबित हो रहा है। इस संबंध में नीति आयोग और आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन आदि ने विस्तार से चर्चा की है।

राहुल के बयान पर बोले हृढ्ढञ्जढ्ढ उपाध्यक्ष, किसानों के लिए मोदी सरकार जितना काम किसी ने नहीं किया

कर्जमाफी पर राहुल के बयान पर बोले हृढ्ढञ्जढ्ढ उपाध्यक्ष, ‘यह तो कुछ वैसे ही कि मानो या ना मानो, मैं ही चैंपियनÓ

राजीव कुमार ने कहा, किसानों के लिए मोदी सरकार जितना काम कर रही है, उतना किसी ने भी नहीं किया

हृढ्ढञ्जढ्ढ उपाध्यक्ष ने कहा कि कृषि समस्याओं का उपचार नहीं, बल्कि दर्द कम करने वाली दवा भर है कर्जमाफी

राहुल गांधी ने कहा था कि जबतक सभी किसानों का कर्ज माफ नहीं हो जाता,वह पीएम मोदी को नहीं सोने देंगे।

इसी प्रकार से हम यह कह सकते हैं कि वोट बैंक पॉलिटिक्स के लिये अलगाववादी तत्वों हुर्रियत और सेना पर पत्थरबाजी करने और करवाने वालों को प्रोत्साहन देकर देश की सुरक्षा के लिये हम खतरा ही पैदा करते हैं।

आतंकवादियों से मुठभेड़ करते समय उन पर पत्थरबाजी करने वालों को राजस्थान के उप मुख्यमंत्री के ससुर फारूख अब्दुल्ला द्वारा देशभक्तों की संज्ञा देना देश की सुरक्षा में छेद करना ही है।

पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान जाकर खालिस्तानी आतंकी गोपाल चावला से मिलना और पाक आर्मी चीफ बाजवा को गले लगाना पाक के प्रधानमंत्री इमरान खान की प्रशंसा में कसीदे गढऩा और ठीक इसके विपरीत भारत के प्रधानमंत्री के प्रति देश के दुश्मन की धरती पाकिस्तान में अपशब्दों का प्रयोग करने को क्या हम देशद्रोह नहीं कह सकते?

क्या पाक परस्ती करने से नेता समझते हैं कि उन्हें भारत के मुस्लिमों के वोट मिल जायेंगे?

भारत की वर्तमान सरकार आर्थिक प्रगति, जिसमें किसान और गरीबों का हित भी शामिल है ठोस नीति अपनाकर उन्हें अमलीजामा पहनाने का प्रयास कर रही है परंतु उन पर पानी फेरने का काम झूठे गरीबी हटाओ जैसे लुभावने नारे और  कर्जमाफी जैसे लॉलीपाप द्वारा विपक्षी नेताओं द्वारा किया जा रहा है।

यह खुशी की बात है कि केन्द्र सरकार इन सब बातों को नजर अंदाज करते हुए सबका साथ सबका विकास के मंत्र पर आगे बढ़ रही है।  

इसके दो उदाहरण आज के समाचार पत्रों में प्रकाशित हुए हैं।

पीएनबी फ्रॉड: सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, 8 अधिकारी समेत 10 आरोपी गिरफ्तार

सीबीआई ने पंजाब नेशनल बैंक के ब्रैडी हाउस शाखा में नौ करोड़ रुपए कीमत के गारंटी पत्र के कथित दुरूपयोग मामले में 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। यह मामला नीरव मोदी और मेहुल चोकसी द्वारा दो अरब डॉलर की बैंक धोखाधड़ी से जुड़ा है।

देश की सुरक्षा के संबंध में हमें हमारी देश की  सेना और एनआईए तथा अन्य सुरक्षा एजेंसियों की प्रशंसा करनी होगी।

आज का ही समाचार है

एनआईए द्वारा तमिलनाडु में हिंदू नेताओं को मारने की योजना बनाने वालों के जगहों पर छापे मारे हैं।

ये छापेमारी कोयंबटूर से कथित तौर पर आतंकी संगठन आईएसआईएस से जुड़े लोगों की गिरफ्तारी से जुड़े केस में की गई। छापों में एनआईए ने एक बड़ी तादाद में डिजिटल डिवाइस, कैश, किताबें और कुछ आपत्तिजनक कंटेट बरामद किया है। ये सभी सामान सीज कर दिया गया है।

कोयंबटूर से सितंबर और अक्टूबर में कुछ लोगों को आईएसआईएस से प्रभावित होने और कुछ हिन्दूवादी नेताओं की हत्या की साजिश के आरोप में कई युवकों को गिरफ्तार किया गया। ये छापे भी उसी कार्रवाई की अगली कड़ी बताए गए हैं।

पुलिस ने हिन्दू मक्कल काची के प्रमुख और कुछ अन्य लोगों की हत्या की साचिश रचने के सिलसिले में सितंबर में पांच लोगों को गिरफ्तार किया था। इसके बाद दो अन्य लोगों को उन्हें आश्रय देने और उनके लिए वाहन का इंतजाम करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने इन लोगों को आईएसआईएस के मॉड्यूल से प्रेरित बताया था। इस मामले को बाद में राष्ट्रीय जांच एजेंसी को सौंप दिया गया था। बुधवार को कोयंबटूर में कई स्थानों पर छापेमारी की गई। एनआईए की टीम ने कई घरों की तलाशी ली।

इससे स्पष्ट है कि गरीबी हटाओ जैसे नारों, कर्जमाफी वाले लॉलीपाप और पाक परस्ती से नहीं बल्कि ठोस नीति से देश की सुरक्षा और तरक्की संभव है।

Leave comment