4 January 2019

गहलोत कमलनाथ को छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल से लेनी चाहिये सीख

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा के चुनाव के एजेंडे की झलक राजस्थान और मध्यप्रदेश के सीएम के माध्यम से दे दी है इन दोनों सीएम के पूर्व भी राहुल गांधी जी का एजेंडा  उनके द्वारा पाकिस्तान में भेजे गए अपने राजदूत   मणिशंकर अय्यर और नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा दी जा चुकी है।

अभी राजस्थान में कांग्रेस की गहलोत सरकार अकबर को महान बनाने और महाराणा प्रताप को महत्वहीन दर्शाने के उद़देश्य से पाठ्यक्रमों में बदलाव का प्रयत्न कर रही है। इसके खिलाफ भाजपा ने राज्यभर मेें प्रदर्शन करने का ऐलान कर दिया है।

इसी प्रकार से  कमलनाथ की मध्यप्रदेश की सरकार ने अनेक देश विरोधी निर्णय लेने की ठान ली है। वंदेमातरम विवाद को भी उन्होंने जन्म दिया।

अब इंदिरा गांधी के तीसरे पुत्र कमलनाथ ने इमरजेंसी के टाईम पर इंदिरा गांधी का विरोध करने वालों को सजा देने की ठान ली है। मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ ने भारत के सबसे काले  दिनों के दौरान लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए लडऩे वालों को दी जाने वाली पेंशन रोक दी है।

यह प्रशंसनीय है कि जिस प्रकार से गहलोत और कमलनाथ अनेक देश विरोधी निर्णय लिये हैं उस प्रकार का कोई भी निर्णय छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने नहीं लिया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा चुनाव का एजेंडा तय कर दिया है।

ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने कहा कि एएनआई को दिये गए इंटरव्यू में पीएम आक्रामक नहीं दिख रहे थे।

लेकिन इंडिया टीवी के रजत शर्मा का मानना है कि पीएम मोदी की सरकार ने अब तक जो कुछ भी किया, वह केवल उसका ब्यौरा दे रहे थे। इंटरव्यू के दौरान नरेंद्र मोदी ने जबजब अपने काम के बारे में सवालों के जवाब दिए, हर जबाव के साथ लगे हाथ कांग्रेस पर हमला भी किया। वे कांग्रेस पर हमला करने से अपने आपको रोक नहीं पाए और निश्चित तौर पर उनका लहजा आक्रामक था।

रजत शर्मा के इस कथन की पुष्टि आज पीएम मोदी ने पंजाब में जो हुंकार भरी है उससे स्पष्ट हो गया है।

पीएम मोदी ने मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ की ओर इशारा करते हुए कहा, जिनका इतिहास हजारों सिख भाई बहनों की बेरहमी से हत्या का हो और जो आज भी दंगों के आरोपियों को मुख्यमंत्री पद का पुरस्कार देते रहे हैं, उनलोगों से पंजाब समेत देशवासियों को सतर्क रहने की जरूरत है।

उन्होंने 84 दंगे की ओर इशारा करते हुए कहा कि तीन दशक से देश न्याय का इंतजार कर रहा था। दोषियों को सजा दिलाना पूरे देश की भावना थीएक परिवार के इशारे पर जिनजिन आरोपियों कोसज्जनÓ बताकर फाइल दबा दी गई, एनडीए सरकार ने उनको बाहर निकाला, एसआईटी का गठन किया और परिणाम सबके सामने है।

राम मंदिर के मुद्दे पर मोदी ने कहा, कांग्रेस को सुप्रीम कोर्ट से अपने वकील हटा लेने चाहिए जो जल्द सुनवाई की प्रक्रिया को लटका रहे हैं। सीबीआई, रिज़र्व बैंक और न्यायपालिका पर उन्होंने विस्तार से बताया कि कैसे पिछले 70 वर्षों से कांग्रेस इन संस्थानों को कमजोर कर रही थी।

यहॉ यह उल्लेखनीय है कि यूपीए शासनकाल में सोनिया गांधी जी के निर्देश पर तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री क्रिस्चियन अंबिका सोनी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दिया था कि राम मिथक हैं काल्पनिक हैं वास्तविक नहीं।

इसी प्रकार से गुजरात विधानसभा चुनाव के समय सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मुद्दे पर जब बहस चल रही थी तब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट से आग्रह किया था कि २०१९ के चुनाव संपन्न होने तक इस मुद्दे पर चर्चा स्थगित कर दी जाये।

आने वाले सौ दिनों में अपने प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी देश की जनता जनार्दन को अपने काम का हिसाबकिताब देंगे। वे विस्तार से बताएंगे कि उनकी सरकार ने कैसे गरीब लोगों को गैस और बिजली कनेक्शन मुहैया कराई। मुद्रा स्कीम के तहत लाखों करोड़ रुपए का कजऱ् दिया गया, चीजें सस्ती हुईं और मध्यम वर्ग को फायदा हुआ। लेकिन साथसाथ पीएम मोदी अपनी रैलियों में कांग्रेस पर हमला भी करेंगे। वे कांग्रेस केडबलस्पीकÓ के बारे में और उसके दोहरे मापदंड के बारे में लगातार हमले करेंगे। पीएम मोदी ने अपने विस्तृत इंटरव्यू के जरिए ये काम शुरू कर दिया है और अब वे अपने संदेश लोगों तक पहुंचाने के लिए 100 रैलियों को संबोधित करेंगे।

कांग्रे्रस अध्यक्ष राहुल गांधी डबल स्पीच का दर्शन मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ ने आज करा दिया है : शिवराज कीधमकीÓ के बाद कमलनाथ सरकार का यूटर्न? फिर से हर महीने पुलिस बैंड की धुन पर होगा वंदे मातरम, मार्च भी निकाला जाएगा।

महाराणा प्रताप और अकबर पर राजस्थान के शिक्षा मंत्री के बयान के बाद से संग्राम छिड़ गया है. सूबे में विपक्षी दल बीजेपी ने इस मुद्दे पर कांग्रेस सरकार को जमकर घेरा है और राज्यव्यापी प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।

राजस्थान में सरकार बदलते ही एक बार फिर से इस बात पर संग्राम छिड़ गया है कि महाराणा प्रताप महान थे या अकबर. कांग्रेस सरकार के शिक्षा मंत्री के बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी  ने गुरुवार को पलटवार करते हुए कहा कि अब इस मुद्दे पर सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जवाब दें कि दोनों में कौन महान थे? भाजपा ने राज्यभर में कांग्रेस के खिलाफ प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।

बीजेपी दफ्तर में गुरुवार को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में राज्य के पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि अब इस मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बयान दें कि अकबर और महराणा प्रताप में कौन महान है?

Leave comment