15 May 2019

भाजपा अध्यक्ष श्री शाह को रोड शो धर्मतल्ला के मेट्रो क्रोसिंग से शुरू हुई थी तथा कॉलेज स्ट्रीट से गुजरना था. कॉलेज स्ट्रीट स्थित कलकत्ता विश्वविद्यालय के मूल कैंपस में तृणमूल कांग्रेस छात्र परिषद के सदस्य दोपहर से ही धरना दे रहे थे. उनके हाथों में काला झंडा था और वेअमित शाह गो बैकÓ के नारे लगा रहे थे। क्या उन्हेें टीएमसी सरकार की बदनाम पुलिस का संरक्षण प्राप्त था। पुलिस ने उन्हें इकट्ठा होकर नारेबाजी करने की अनुमति क्यों दे रखी थी।
रोड शो मेेंं हिंसा का प्रारंभ हुआ जब उक्त इक_ हुए छात्रों ने अमित शाह के वाहन पर डंडा फेंका।   
स्पष्ट है एक सुनियोजित षडयंत्र के तहत अमित शाह के रोड शो में त्रिणमुल और लेफ्ट समर्थित गुंडातत्वों ने हिंसा फैलाई।
अधिकारियों ने बताया कि यह तनाव तब बढ़ गया जब अमित शाह के काफिले के कॉलेज स्ट्रीट और स्वामी विवेकानंद के निवास के लिए उत्तरी कोलकाता में बिधान सारणी से गुजरते वक्त पथराव किया गया।
पथराव किसने किया? स्पष्ट है टीएमसी और लेफ्ट समर्थित जो छात्र इक_ हुए थे उनके द्वारा ही हुआ होगा।
रोड शो में शामिल बीजेपी समर्थक युवक तो  रोड शो पर पत्थरबाजी करेंगे नहीं।
स्वामी विवेकानंद के पैत्रिक निवास में जाकर  वहॉ का दर्शन करने का कार्यक्रम अमित शाह का था। अमित शाह ने कहा कि वहॉ वे नहीं जा सके इसका उन्हें बेहद दु: है।
कांग्रेसलेफ्टटीएमसी तीनों ही द्वारा एक सोचीसमझी रणनीति के तहत बीजेपी के विरूद्ध आक्रमक हो रही हैं। गालीगलौच कर रही हैं।
>> हिन्दुत्व के बढ़ते उभार को वे हिन्दू भगवा आतंक के नाम से संबोधित कर भारत को बदनाम कर रहे हैं।
>> वामपंथियों का सहयोग लेने की दृष्टि से ही राहुल गांधी मुस्लिम लीग के समर्थन पर वायनाड से चुनाव लडऩे के लिये केरल पहुंचे हैं।
>> कांग्रेस का जहॉ तक सवाल है उसके लिये भारत का मतलब है नेहरूगांधी परिवार। उनकी दृष्टिे में उसके पहले कोई भारत था ही नहीं। अर्थात कांग्र्रेस और मुस्लिम लीग के पहले  उन्हें भारत नजर ही नहीं रहा है।
>> वीर सावरकर का भारतीय स्वतंत्रता में कोई योगदान नही, राजस्थान सरकार ने बदला पाठ्यक्रम। राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने वक्तव्य में कहा है कि सावरकर ने चार बार अंग्रेजों से माफी मांगी।
>>  अंग्रजों की चाटूकार रहे हैं क्रस्स् के लोग: प्रियंका वाड्रा
डॉक्टर हेडगेवार, जिन्हें प्रणब मुखर्जी ने कहाभारत मां का महान सपूतÓ
8 जून 2018 को गुरुवार शाम प्रणब मुखर्जी ने भाषण से पहले डॉ हेडगेवार के निवास का दौरा किया और विजि़टर बुक में लिखा, ‘Óमैं आज यहां भारत मां के महान सपूत डॉ के बी हेडगेवार को श्रद्धांजलि देने आया हूं.ÓÓ
लेफ्टकांग्रेसटीएमसी तीनों ही  लोकतंत्र के लिये खतरा बन गई हैं।
सुभाष चंद्र बोस को लेफ्ट पार्टियों ने कुत्ता तक कहा था। पंडित नेहरू ने ब्रिटेन के उस समय के प्रधानमंत्री एटली को पत्र लिखकर क्या कहा था? इससे हम समझ सकते हैं कि सुभाष चंद्र बोस की हत्या किस षडयंत्र के तहत की गई।
>> सत्ता प्राप्त करने के लिये ममता बैनर्जी कांग्रेस से अलग हुई और अपनी खुद की टीएमसी पार्टी बनाई। लेफ्ट का शासन बंगाल में समाप्त कर वह सीएम बनीं।
>> सत्ता प्राप्ति के बाद अब ममता बैनर्जी के टीएमसी में और लेफ्ट तथा कांग्रेस पार्टी में  कोई अंतर नहीं रहा है।
>> अब इन तीनों ही टिकट महाविकट का एक ही उद्देश्य है येनकेनप्रकारेण पीएम मोदी को हटा कर सत्ता पर काबिज हुमआ जाये।  
इसके लिये वे अलोकतांत्रिक तरीका अपना रहे हैं। अमित शाह के रोड शो में हुआ बवाल और उसके साक्ष्य इसके उदाहरण हैं।  
२०१४ जैसे ही बल्कि उससे भी अधिक अभी तक के : चरणों में वोटिंग हुई है। यह इस बात का संकेत है कि नरेन्द्र मोदी पुन: पीएम बनेंगे। यह अनुभव कर विपक्ष आपा खो बैठे हैं।
भारत की १३० करोड़ जनता के विरूद्ध  विपक्ष का षडयंत्र, परिवारवादी पार्टियों का  षडयंत्र सफल नहीं हो सकेगा, उन्हें लोकतंत्र का रास्ता अपनाना ही पड़ेगा।

Leave comment