25 April 2019

सेम पित्रोदाहामिद अंसारी VS साध्वी प्रज्ञा

सोनिया राहुल के करीबी सेम पित्रोदा ने २२ मार्च को बालाकोट एयरस्ट्राइक पर सबूत मांगते हुए कहा था किपाकिस्तान से आए कुछ लोगÓ यदि आतंकी वारदात अंजाम देते हैं तो उसकी सजा पूरे पाकिस्तान को क्यों दी जा रही है? कितने भोले बन रहे हैं पित्रोदा जी.

आतंकी हमला होने के उपरांत यूपीए शासनकाल में कोई स्ट्राईक नहीं की गई। अब मोदी सरकार ने बालाकोट स्ट्राइक कर पूरे पाकिस्तान को सजा देने की ओर क्यों कदम उठाया है?

उक्त टिप्पणी के पीछे छिपी है यूपीए शासनकाल में हिन्दू आतंक और भगवा आतंक  के झूठ को प्रचारित करने के षडयंत्र की गाथा।  

> हिन्दू आतंकवाद के झूठ को प्रचारित करने के लिये समझौता एक्सप्रेस और अजमेर ब्लास्ट के  अपराधी पाकिस्तानियों को गिरफ्तार करने के बाद छोड़ दिया गया और मालेगांव बम ब्लास्ट में साधवी प्रज्ञा को वर्षांे तक जेल में ठूंस कर याचनाएं दी गई।

>> उसी हिन्दू भगवा आतंकवाद के झूठ का पर्दाफाश करने के लिये यूपीए शासनकाल के पी चिदंबरम और शिंदे के माध्यम से जो षडयंत्र हुआ था उसको उजागर करने के लिये भाजपा ने  भोपाल से दिग्विजय सिंह के विरूद्ध साध्वी प्रज्ञा को प्रत्याशी बनाया है।

>> सेम पित्रोदा के जैसे ही अब सोनिया गांधी के दूसरे करीबी खासमखास हामिद अंसारी ने भी बालाकोट एयरस्ट्राइक पर सबूत मांगे हैं।

यहॉ यह उल्लेखनीय है कि गुजरात विधानसभा चुनाव के समय मणिशंकर अय्यर के निवास स्थान पर रात के अंधेरे में पाक के विदेशमंत्री कसूरी और पाक के राजदूत के स्वागत में जो षडयंत्रकारी रात्रि भोज का आयोजन हुआ था उसमें मनमोहन सिंह और हामिद अंसारी भी उपस्थित हुए थे।

>> आईएसआईएस से संबंधित पीएफआई केरल का जो संगठन है उसके समारोह में भी हामिद अंसारी शामिल हो चुके हैं।

>> पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने दिल्ली में एक कार्यक्रम में कहा कि 1947 में हुए विभाजन के लिए सिर्फ पाकिस्तान ही जिम्मेदार नहीं है, बल्कि भारत भी इसमें जिम्मेदार था।

>> दस साल तक उपराष्ट्रपति रहने वाले हामिद अंसारी ने अपने कार्यकाल के आखिरी दिन ही कहा था कि देश के मुसलमानों में घबराहट का भाव है और वो असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

>> रॉ के पूर्व अधिकारी आर के यादव ने 14 जुलाई को हामिद अंसारी के चरित्र का पर्दाफाश किया और कहा कि यह व्यक्ति दो चेहरे वाला है।

>> आर के यादवक्चद्ब5ड्डह्म्ह्म्द्ग क्र&्रङ्ख ढ्ढठ्ठष्द्बस्रद्गठ्ठह्लह्य में लिखते हैं कि हामिद अंसारी ने ईरान में कश्मीर आंदोलनकारियों  का साथ दिया।

>> ्रविभिन्न देशों में भारत के राजदूत रह चुके हामिद अंसारी ने ऐसे काम किए हैं, जिससे भारत की सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों की पहचान दूसरे देशों के सामने गई। हामिद अंसारी ने ऐसा एक बार नहीं कई बार किया।

Leave comment