3 January 2019

लोकसभा में राफेल मुद्दे पर बहस के दौरान जब वित्तमंत्री अरूण जेटली जवाब दे रहे थे उस  समय संभवत: राहुल गांधी के इशारे पर कांग्रेस के सांसदों ने कागज के हवाईजहाज उनकी तरफ फेंकने प्रारंभ कर दिये।

यह दृश्य देखने के उपरांत ऐसा महसुस हुआ     कि संभवत: राहुल गांधी को अपने पिता पायलट  रहे राजीव गांधी का स्मरण हुआ होगा।

दूसरा और  भी स्मरण उन्हें यह हुआ होगा बंग्लादेश लिब्रेशन वार के समय सोनिया गांधी शरण लेने के लिये अपने बच्चों के साथ इटली के  भारत स्थित दूतावास में शरण लेने पहुंच गई थी।   आवश्यक्ता पडऩे पर तुरंत वे इटली उड़ान भर सके इसके लिये एक हवाई जहाज भी इस उद्ेश्य के लिये तैय्यार रखा गया था।  

अब राहु़ल गांधी हवाई जहाज तो उड़ाना जानते नहीं। इसलिये वे संभवत: कागजी हवाई जहाज उड़ाकर उड़ते हुए देखकर अपनी उन स्मृतियों को ताजा कर रहे हैं।

ऐसा प्रतीत होता है कि राहुल गांधी भले ही ४५ वर्ष के हो चुके हों और सांसद भी बन गए हों तथा कांग्रेस के अध्यक्ष भी बन गए हों परंतु उनमें परिपक्वता अभी भी नहीं आई है। भले ही प्रधानमंत्री बनने का वे अपना जन्म सिद्ध अधिकार समझते हों गांधी परिवार में जन्म लेने की वजह से परंतु उनमें बचपना अभी तक छाया  हुआ है। बच्चों जैसी हरकतें वे करते जा रहे हैं।  

अपने प्रधानमंत्री बनने की लालसा में वे हिटलर के प्रचारमंत्री गोएबल्स का अनुकरण कर रहे हैं और झूठ पर झूठ बोलते जा रहे हैं।

संभव है वे दुनिया के सबसे बड़े झूठे कहलाने के लिये गिनिज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में नाम दर्ज करवाना चाहते हों। इस संबंध में मुझे विकीपीडिया का एक वाकया याद रहा है जिसके अनुसार इंग्लैंड में एक वार्षिक झूठ बोलने की प्रतियोगिता आयोजित की जाती है।

2003 में, दक्षिण अफ्रीका के एबरी क्रुएगर को एक कहानी के बारे में बताने के बाद दुनिया का सबसे बड़ा झूठा नाम दिया गया था कि कैसे उन्हें वासेडेल घाटी का राजा बनाया गया था। इसने पहली बार एक विदेशी खिलाड़ी ने प्रतियोगिता जीती, जिसे क्रुएगर ने धोखा देने के आरोपों के साथ चिह्नित किया था।  

कार्लिस्ले के बिशप  को माना जाता था कि वह एक बार सबसे छोटे भाषण के साथ प्रतियोगिता जीता था; उन्होंने बस इतना कहा, “मैंने अपने जीवन में कभी झूठ नहीं कहा।

कॉमेडियन सू पर्किन्स ने 2006 में प्रतियोगिता जीती, इस घटना के इतिहास में पहली बार एक महिला ने प्रतियोगिता जीती।

ओजोन परत के क्षतिग्रस्त हो जाने के बारे में उसकी जीत की लंबी कहानी थी, बर्फ के टुकड़े पिघल गए और लोगों को ऊंटों पर काम करने के लिए ले जाना पड़ा।

2008 में, जॉनजॉनी लियारग्राहम ने सातवीं बार प्रतियोगिता जीती, जिसमें जजों को स्कॉटलैंड के लिए एक जादुई सवारी की कहानी सुनाई गई थी, जो समुद्र के नीचे एक व्हीलचेयर बिन में स्कॉटलैंड के लिए चलती थी

पिछले वर्ष ग्राहम का विजयी झूठ यह था कि द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मन पनडुब्बी ने डिजिटल टेलीविजऩ डिकोडरों पर कब्जा करने के लिए ब्रिटेन पर आक्रमण किया था।

एसेक्स के पॉल बरोज़ ने 2010 में यह प्रतियोगिता जीती। उन्होंने एक कहानी बताई कि कैसे एम्स के काउंटी से क्यूम्ब्रियन कंट्रीसाइड की झीलों और पहाड़ों को चुरा लिया गया था, क्योंकि यह आज भी सपाट है।

2011 के विजेता ग्लेन बॉयलान थे। उनकी कहानी में प्रिंस चाल्र्स के साथ एक घोंघा दौड़ पर दांव लगाना शामिल था (जिसने उन्हें इसे अधिक वायुगतिकीय बनाने के लिए शेल को हटाने की सलाह दी थी) और हार गए क्योंकि उनके विरोधियों ने बैटरी चालित घोंघे के साथ धोखा दिया।

2013 में अपने झूठ बोलने के कैरियर में माइक नायलर ने तीसरी बार जीत दर्ज की। वासेडेल के 57 वर्षीय व्यक्ति नाइलर ने वासी के बारे में एक कहानी बताई, जो कि राक्षस है, जो वास्तावाटर में रहता है, स्थानीय झील है। [11] वह जोस नाइलर के भतीजे हैं, जिन्हें एक गिर धावक के रूप में जाना जाता है, लेकिन वे खुद भी प्रतियोगिता के पूर्व विजेता थे।

अब लगता है २०१९ की प्रतियोगिता में  राहुल गांधी जी भाग लेंगे और गिनिज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में नाम दर्ज कराएंगे।

Leave comment